कायाकल्प की अंतिम डेडलाइन जारी, 23 जनवरी को भोपाल की स्वास्थ्य टीम करेंगी निरीक्षण

जिला अस्पताल को संवारने 60 लाख खर्च, अब जांच की बारी

अनूपपुर। कायाकल्प योजना के प्रावधानों के अनुसार बेहतर स्वास्थ्य सुविधायुक्त बनाने जिला प्रशासन की अगुवाई की पिछले ढाई माह से अस्पताल की बदली जा रही काया में अब जांच के लिए डेडलाइन जारी कर दी गई है। २३ जनवरी को भोपाल स्वास्थ्य संचालनालय की विशेष टीम द्वारा जिला अस्पताल का निरीक्षण किया जाएगा। जिसमें टीम द्वारा मरीजों की सुविधा, साफ सफाई, दवाई, सहित अन्य व्यवस्थाओं पर जांच पड़ताल करते हुए समीक्षा रिपोर्ट भोपाल भेजी जाएगी। जिसके आधार पर जिला अस्पताल को अंक प्रदान किए जाएंगे और उसी के आधार पर अवार्ड राशि की घोषणा होगी। कायाकल्प अवार्ड योजना मुख्य रूप से स्वास्थ्य केंद्रों में सफाई सहित अन्य मूलभूत सुविधाओं में दिए जाते हैं। इनमें सेनिटेशन, हाईजिन, वेस्ट मैनेजमेंट, इंफेक्शन कंट्रोल, सपोर्ट सर्विस सहित अन्य मानक को निर्धारित किया गया है। ताकि अस्पतालों में प्रतिस्पर्धी भाव का भी विकास उत्पन्न कर शासन स्तर से मरीजों को शासकीय अस्पतालों से ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराया जा सके। प्रदेश में मेडिकल कॉलेज अस्पताल, जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की कैटेगरी बनाकर अलग-अलग श्रेणी में अलग-अलग इनामी राशि बतौर पुरस्कार दिया जाता है। सिविल सर्जन डॉ. एससी राय ने बताया कि १४ जनवरी को कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई प्रगति कार्य समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने संतोष जताते हुए पिछले ढाई माह के दौरान जिला अस्पताल में बदली व्यवस्था को मरीजों के लिए उपलब्धि बताया। साथ ही स्वास्थ्य अधिकारियों को चंद दिनों की मोहल्लत देते हुए २३ जनवरी भोपाल टीम की जांच होने की चेतावनी भी दी। वहीं कलेक्टर ने बताया कि भोपाल जांच टीम से पूर्व २१ जनवरी को शहडोल से जांच टीम आएगी, जो कमियों को बताकर उसे दूर कराने दिशा निर्देश देगी। हालंाकि पूरी तैयारी में सिविल सर्जन ने परिसर के अंदर वार्डो की पुताई और बाथरूम को अपूर्ण बताया है। साथ ही कहा इसे तय सीमा से पूर्व पूर्ण करा लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व जिला कलेक्टर ने कायाकल्प के छह विभिन्न श्रेणियों सेनिटेशन, हाईजिन, वेस्ट मैनेजमेंट, इंफेक्शन कंट्रोल, सपोर्ट सर्विस व आम नागरिकों की फीडबैक के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करते हुए सुधार कार्य के लिए ६० लाख रूपए उपलब्ध कराए थे। जिसमें सभी नोडल अधिकारी से ३१ दिसम्बर तक सुधार काम कायाकल्प योजना के प्रावधानों के अनुरूप कराते हुए रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। इस दौरान खुद कलेक्टर सप्ताह में समीक्षा बैठक आयोजित करते हुए सौन्दर्यीकरण कार्यो का मॉनीटरिंग करते रहे।
बॉक्स: पिछले वर्ष प्रदेश में मिले थे मात्र १८ प्रतिशत अंक
कायाकल्प योजना की ग्रेडिंग में प्रदेश के समस्त ५२ जिलों में अनूपपुर जिला कायाकल्प की चेक लिस्ट में सबसे निचले पायदान पर आया था। अनूपपुर को ६०० अंकों की ३०० मानकों वाली चेक लिस्ट सूची में मात्र १०८ अंक प्रदान किए गए थे, यानि १८ प्रतिशत अंक। जो योजना की सबसे न्यनूतम स्थिति मानी जाती है। जबकि इसमें बेहतर अंक के साथ बेस्ट ऑफ के लिए कम से कम ७० प्रतिशत बेस लाइन अंक को पार करना आवश्यक है। 70 फीसदी अंक पाई जाती हैं तो इन्हें मजबूत बनाने के लिए सरकार द्वारा 50 लाख की ग्रांट राशि प्रदान की जाती है।
वर्सन:
समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने संतोष जाहिर करते हुए बेहतर बताया है। अभी हमारे पास दो काम शेष है जिसे तय समय से पूर्व तैयार कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। शेष सुधार कार्य लगभग पूर्ण हो चुके हैं।
डॉ. एससी राय, सिविल सर्जन जिला अस्पताल अनूपपुर।
---------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned