अधिकारियों ने बिना जमीन आवंटित किए, जारी कर दी पीएम आवास की राशि

हितग्राहियों की पहली किश्त की ४० हजार राशियां हुई आवंटित, अबतक नहीं खुदी नींव

By: Shahdol online

Published: 12 Nov 2017, 05:01 PM IST

अनूपपुर. गरीब परिवारों के सिर छिपाने पीएम आवास योजना के तहत आशियाना बनाने तथा स्थायी निवास दिलाने केन्द्र सरकार की योजनाओं में शासकीय राशियां जैतहरी विकासखंड के सैकड़ों हितग्राहियों के लिए मुसीबत बन गई। जहां शासन स्तर पर आवंटित ३० लाख की राशियों के बावजूद लगभग ७५ हितग्राहियों ने अपने भवन निर्माण के लिए नींव नहीं खुदवा सके।
बताया जाता है ग्राम पंचायत पर हितग्राहियों के चयन में जनप्रतिनिधियों और शासकीय सेवकों ने आनन फानन में अपनी रिपोर्ट तैयार करने में बिना जमीन आवंटन के ही उनके भवन निर्माण की सूची तैयार कर लाभ के लिए भेज दिया। जहां मार्च माह के दौरान आवंटन की गई राशियों के बाद भी अबतक हितग्राहियों के भवन निर्माण नहीं आरम्भ हो सके हैं। जिसे देखते हुए हाल के दिनों जनपद पंचायत सीईओ एसके वाजपेयी ने ऐसे हितग्राहियों के आंवटन राशियों को वापस वसूली किए जाने जिपं में रिपोर्ट सौंपी है। सीईओ के अनुसार इन हितग्राहियों ने आवास योजना के तहत उपलब्ध कराए गए प्रथम किश्त की ४० हजार रूपए अबतक अपने खातों में रखे हुए है, जिनका उपयोग भवन निर्माण के लिए नहीं हो सका है। वहीं हितग्राहियों का कहना है कि उनके भवन के लिए राशियां तो उपलब्ध है लेकिन भवन कहां बनाए उनके पास जमीन ही नहीं है। बताया कि पीएम आवास योजना के तहत जैतहरी जनपद के अंतर्गत ४ हजार ११८ हितग्राहियो को पीएम आवास स्वीकृत हुए थे। जिसमें कई ग्राम पंचायतों के ७५ हितग्राहियों द्वारा पीएम आवास निर्माण की लगभग ३० लाख रूपए अबतक खर्च नहीं किए।
जिसकी जांच सचिव व रोजगार सहायक के माध्यम से करवाते हुए जनपद के अधिकारियो द्वारा सत्यापन कर ७५ पीएम आवास के हितग्राहियों के खिलाफ नोटिस जारी कर कार्रवाई के लिए जिपं सीईओ को भेजी है। वहीं सत्यापन में कई हितग्राही ऐसे है जिनके पास भवन बनाने के लिए न तो भूमि है। जबकि कुछ हितग्राहियों की आवास योजना में मिली पहली किश्त केसीसी बैंक ऋण में काट लिया गया। ग्राम अमगवां के मोहन पिता भगनवा चर्मकार, ग्राम छुलहा के मीरा पति पुरूषोत्तम चौधरी, मोहन पति पंचू चौधरी, बजरिया पति रामसिंह गोंड के पास आवास के लिए भूमि नहीं है। जबकि पसला के कोशे पति जुगिया कोल, चरण ङ्क्षसह, नर्वदा सहित अन्य लोगों के केसीसी का बैंक द्वारा लिए गए ऋण में काट लिए गए हैं।
सरपंच ने भवन निर्माण में ग्रामीणों से वसूली थी २ लाख ८५ की राशि
पुष्पराजगढ़ ग्राम पंचायत के बिजौड़ा सरपंच उमेद सिंह द्वारा गांव के ९ हितग्राहियों से भवन निर्माण कराने के नाम पर उनसे ३०-३५ हजार रूपए की वसूली कर उनका भवन निर्माण नहीं कराया था। यहां तक उनके नामों पर मांगी गई रिपोर्ट में उमेद सिंह ने अन्य स्थान के भवन निर्माण की फोटो अपलोड कर शासन को गलत जानकारी दे दी। जिसमें २९ अक्टूबर को कमिश्नर के भ्रमण पर ग्रामीणों द्वारा की गई शिकायत पर प्रशासन ने सरपंच पर धोखाधड़ी का मामला अमरकंटक में दर्ज कराया। लेकिन आरोपी की अबतक गिरफ्तारी नहीं हो सकी।

Shahdol online
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned