पंचायत ने पुलिस से मांगा अपना भवन, 9 सालों से पंचायत भवन में संचालित हो रही पुलिस सहायता केन्द्र

प्रशासनिक अधिकारियों के पसीने उतरने लगे हैं

By: amaresh singh

Published: 07 Jul 2019, 11:21 AM IST

अनूपपुर। मप्र.-छत्तीसगढ़ की सीमावर्ती अनूपपुर जिले के अंतिम छोर पर संचालित वेंकटनगर पुलिस सहायता केन्द्र चौकी भवन अब पुलिस और ग्राम पंचायत के बीच उलझन बन गई है। सुरक्षा व्यवस्थाओं के लिए 9 साल पूर्व ग्राम पंचायत द्वारा आवंटित कराई गई ग्राम पंचायत भवन को अब ग्राम पंचायत ने खाली करने के आवेदन दिए हैं। साथ ही न्यायालय में आवेदन देकर ग्राम पंचायत भवन को खाली कराने की अपील की है। जिसके बाद अब बिना भवन पुलिस चौकी संचालन को लेकर चौकी प्रभारी सहित प्रशासनिक अधिकारियों के पसीने उतरने लगे हैं। ग्राम पंचायत का कहना है कि पूर्व में सुरक्षा व्यवस्थाओं को लेकर ग्रामीण जरूरतों को देखते हुए पुलिस की मदद के लिए यह भवन स्वेच्छा से ग्राम पंचायत द्वारा प्रदान की गई थी।

ग्राम पंचायत को खुद भवन की आश्यकता है
लेकिन अब ग्राम ंपंचायत को इस भवन की खुद आवश्यकता है। जबकि वेंकटनगर पुलिस सहायता केन्द्र की महत्ता को देखते हुए शासन ने वर्ष 2016-17 में एकीकृत कार्ययोजना मद से 13.40 लाख की राशि स्वीकृत कर भवन निर्माण के निर्देश दिए थे। इसके लिए शासन ने ग्राम पंचायत को निर्माण एजेंसी बनाया था और 6.70 लाख प्रथम किश्त आवंटित राशियां पंचायत के खाते में आवंटित कराए थे। शासन ने यह भी निर्देश दिए थे कि राशि आवंटन के तीन माह के भीतर निर्माण कार्य आरम्भ किए जाए। जिसे देखते हुए ग्राम पंचायत ने जिला कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक कार्यालय, जिला पंचायत, पुलिस चौकी वेंकटनगर को पत्र लिखकर भवन निर्माण के लिए अपील की गई थी। लेकिन ग्राम पंचायत की अपील के दो साल बाद भी पुलिस चौकी भवन का निर्माण प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा नहीं कराया जा सका है।


अब तक भवन निर्माण के लिए कार्य शुरू नहीं हुए हैं
बताया जाता है कि वेंकटनगर पुलिस सहायता केन्द्र भवन के लिए वेंकटनगर-पेंड्रा मुख्य मार्ग से सटे मप्र राजस्व की शासकीय आराजी खसरा नम्बर 480 रकबा 1.586 हेक्टेयर भूमि उपलब्ध कराई गई थी। इसके अलावा आवासीय परिसरों के निर्माण के लिए अनुविभागीय अधिकारी व तहसीलदार जैतहरी द्वारा जांच कर वेंकटनगर शासकीय आराजी खसरा क्रमंाक 450 में 40 गुणा 120 वर्ग फीट पुलिस आवास तथा खसरा नम्बर 451 में 152 गुणा 80 वर्ग फीट व खसरा नम्बर 454 में 54 गुणा 80 वर्ग फीट में पुलिस चौकी वेंकटनगर भवन के लिए हस्तांतरित करने के प्रस्ताव दिए थे। जिसपर जिला प्रशासन ने जमीन के लिए स्वीकृति प्रदान कर दी। लेकिन हालात यह है कि अबतक भवन निर्माण कार्य आरम्भ नहीं किए जाने तथा पुलिस प्रशासन की ओर से बरती जा रही विलम्बता पर अब ग्राम पंचायत ने अपना पंचायत भवन वापस करने की चेतावनी दे डाली है।


स्वीकृत जमीन पर अतिक्रमण, राजस्व विभाग बेसुध
ग्राम पंचायत के अनुसार प्रशासन ने आवंटित कराए गए समस्त भूमि के कुछ हिस्सों पर अतिक्रमणकारियों का कब्जा है। जिसे हटाने राजस्व विभाग पहल नहीं कर रही है। राजस्व विभाग की अनदेखी के कारण न तो अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई हो रही है और ना ही भवन निर्माण की प्रक्रिया आरम्भ हो रही है। भवन अभाव के कारण पिछले 9 सालों से ग्राम पंचायत की आमसभाएं सामुदायिक भवन में आयोजित कराया जा रहा है। विदित हो कि वेंकटनगर छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा से सटा हुआ क्षेत्र है जो नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लिहाज से अति संवेदनशील है। इसके अलावा यह मप्र.-छत्तीसगढ़ सम्पर्क मार्ग भी है। जिले के पुलिस अधीक्षक किरणलता करकेट्टा ने कहा कि इस सम्बंध में कलेक्टर को पत्राचार कर जमीन आवंटन की अपील की गई है। जैसे ही जमीन आवंटन होता है भवन निर्माण का कार्य आरम्भ करवा दिया जाएगा।

amaresh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned