साइडिंग पर पीसीबी की मोबाइल यूनिट ने की जांच, शिकायतकर्ता को नहीं दी प्रदूषण की जानकारी

कोल डस्ट की प्रदूषण से कपिलधारा और गलैय्याटोला निवासी बरसों से परेशान

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 10 Jan 2021, 11:39 AM IST

अनूपपुर। कोयला खदानों से सायडिंग तक आने वाले कोयले और परिवहन से लेकर भंडारण तक में बनने वाली डस्ट के निवारण में प्रदूषण विभाग की गाइड लाइन हमेशा से दरकिनार किया गया है। इसमें प्रदूषण विभाग द्वारा नियमित जांच पड़ताल की प्रक्रिया भी सवालों के घेरे में रही। जिसके कारण जिले में संचालित दर्जनों कोल खदानों से होने वाली प्रदूषण पर कभी कार्रवाई नहीं हो सकी। वहीं बिजुरी नगर के वार्ड क्रमांक 7 में संचालित कोल साइडिंग में कोयला परिवहन तथा लोडिंग के दौरान होने वाले प्रदूषण से कपिलधारा तथा गलैय्या टोला के वार्डवासी वर्षों से परेशान हैं। जिसको लेकर वार्ड वासियों के द्वारा की जा रही है आपत्ति तथा विरोध के बाद हाल के दिनों में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की मोबाइल यूनिट कोल साइडिंग पहुंची थी। यहां अधिकारियों ने साइडिंग के समीप हो रहे प्रदूषण की जांच के लिए उपकरण लगाया और जांच की। लेकिन शिकायतकर्ता द्वारा दर्ज किए गए शिकायत पर उन्हें प्रदूषण के सम्बंध में कोई जानकारी नहीं दी। वहीं सीएम हेल्पलाइन से शिकायतकर्ता को उसकी समस्या के निराकरण की जानकारी देते हुए संतुष्ट होने की पुष्टि की अपील की गई। बताया जाता है कि स्थानीय निवासी रिंकू शर्मा तथा प्रकाश सिंह के द्वारा सीएम हेल्पलाइन में शिकायत की गई थी। जिसके बाद शिकायत की जांच के लिए मोबाइल यूनिट पहुंचा था। सुबह से शाम तक जांच उपकरण लगाने के बाद जांच के लिए पहुंचे विभागीय अधिकारी रवाना हो गए थे। वहीं शिकायतकर्ताओं को मोबाइल पर यह सूचना मिली की उनके शिकायत का निराकरण कर दिया गया है। जबकि मौके पर ना तो किसी तरह के प्रदूषण रोकने की व्यवस्था की गई और ना ही हो रहे प्रदूषण को ध्यान दिया गया हैं।
बॉक्स: जांच में क्या पाया यह भी नहीं बताया
शिकायतकर्ताओं का आरोप लगाते हुए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रदूषण की जांच में क्या निष्कर्ष निकाला गया, इसकी जानकारी भी शिकायतकर्ताओं को नहीं दी गई। बल्कि सिर्फ खानापूर्ति करते हुए विभागीय अधिकारी रवाना हो गए।
वर्सन:
जांच रिपोर्ट में क्या पाया गया इसकी जानकारी के लिए आप सूचना का अधिकार लगाएं। शिकायतकर्ता को तकनीकी जानकारी देने की कोई आवश्यकता हमें नहीं है।
एसके मेहरा, क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण विभाग
--------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned