निजी प्रैक्टिशनर्स को एसडीएम ने दी चेतावनी, कोरोना के लक्षण वाले मरीज को भेजे जांच केंद्र

निर्देश की अनदेखी पर होगी सख्त कार्रवाई, मरीजों के इलाज में जानकारियां करें दर्ज

By: Rajan Kumar Gupta

Updated: 12 May 2021, 01:07 PM IST

अनूपपुर। जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकरण और आम नागरिकों को सामान्य संक्रमणों की आड़ में कोरोना से बचाने की मुहिम में कोतमा एसडीएम ने १० अप्रैल की शाम नगरपालिका बिजुरी के सभागार में चिकित्सीय कार्य से जुड़़े निजी प्रैक्टिशनर की आपात बैठक बुलाई। जिसमें चिकित्सकों से घंटो चर्चा करते हुए वर्तमान कोरोना संक्रमण के खतरे को भी बताया। साथ ही एसडीएम ने निजी प्रैक्ट्शिनर्स को बताया कि उनके द्वारा किए जा रहे सर्दी-खांसी और बुखार के इलाज में कोरोना संक्रमित मरीजों के लक्ष्य फॉल्स आ रहे हैं। जिसके कारण मरीज संक्रमित होने के बाद भी इससे बच रहे हैं और कोरोना संक्रमण जैसे गम्भीर महामारी के शिकार बन रहे हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्रों में सर्दी खांसी तथा बुखार के संक्रमित वाले मरीजों का इलाज नहीं करे तथा उन्हें सीधे शासकीय चिकित्सालय भेजते हुए कोरोना जांच कराए जाने की सलाह दें। ताकि स्वास्थ्य केन्द्रों पर तत्काल जांच के साथ इलाज सम्भव हो सके। साथ ही एसडीएम कोतमा ऋषि सिंघई ने कहा कि कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति को समझते हुए लक्षण पाए जाने वाले मरीजों का इलाज नहीं करें। इसी से कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को रोका जा सकता है। रोजाना इलाज वाले मरीजों की पूरी जानकारी रजिस्टर में दर्ज करें। वहीं एसडीएम ने बैठक के दौरान सख्त लहजे में निजी प्रैक्टिशनर्स को चेतावनी देते हुए कहा की यदि निजी प्रैक्ट्शिनर्स द्वारा कोरोना संक्रमण के लक्षण वाले मरीजों का इलाज किए जाने की सूचना मिली तो ऐसे चिकित्सकों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। विदित हो कि पत्रिका ने लगातार खबरों के माध्यम से संक्रमित लक्षण वाले मरीजों का निजी प्रैक्ट्सि करने वाले चिकित्सकों द्वारा इलाज किए जाने पर प्रशासन का ध्यान आकृष्ट कराया था। जिसपर एसडीएम ने संज्ञान लेते हुए बैठक बुलाई।
बॉक्स: गांव में लोगों को करे जागरूक
एसडीएम ने कहां की ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोरोना से ग्रसित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है । ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक करते हुए उनके मन में आई हुई भ्रांतियों को दूर करते हुए उन्हें कोरोना टीकाकरण के फायदे बताएं। उन्होंने बताया कि कोतमा में कोरोना संक्रमित मरीजों अधिक संख्या मिलने के बाद कटकोना और निगवानी में कार्रवाई की गई थी। इस बैठक में डॉ. वीके राय, शुभाशीष सरकार एवं अन्य चिकित्सक उपस्थित रहे।
----------------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned