हड़ताल के बाद सर्वर की धीमी रफ्तार, अनाज के लिए लम्बा इंतजार, तीन दिनों से नहीं मिला राशन

जिले में मात्र 54 फीसदी हितग्राहियों के बीच खाद्यान्न का वितरण, 64 हजार गरीब परिवारों की बढ़ी मुश्किलें

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 26 Feb 2021, 11:35 AM IST

अनूपपुर। जिले में गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों के लिए फरवरी माह किसी आफत से कम साबित नहीं हो रहा है। माह के शुरूआत में मप्र सहकारिता समिति कर्मचारी महासंघ की अनिश्चितकालीन हड़ताल ने हितग्राहियों को अनाज के लिए तरसाया, वहीं हड़ताल समाप्ति के बाद तकनीकि रूप में सर्वर की धीमी गति और गड़बड़ी ने अनाज से वंचित कर दिया है। जिसके कारण गरीब परिवारों के हिस्से शासकीय योजना के तहत मिलने वाला राशन पिछले तीन दिनों से नहीं मिल पाया है। हितग्राही राशन की दुकानों पर रोजाना चक्कर लगा रहे हैं। लेकिन सेल्समैन हितग्राहियों को अनाज का वितरण नहीं कर रहे हैं। बताया जाता है कि यह स्थिति पिछले एक सप्ताह से अधिक समय से बनी हुई है। पहले सर्वर की गति धीमी होने के कारण परिवारों को अपनी अनाज की बारी के लिए दिनभर इंतजार करना पड़ा। अधिकांश परिवारों को दूसरे दिन भी मौका नहीं मिल पाया। वहीं अब सर्वर में आई गड़बड़ी के कारण हितग्राहियों को योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। सेल्समैन का कहना है कि सर्वर की गति धीमी होने के कारण हितग्राहियों की जानकारी अपडेट नहीं हो पाती है। वहीं अब सर्वर पिछले तीन दिनों से गड़बड़ है। इसके कारण भी दुकानों से राशन का वितरण नहीं किया गया है। विभागीय जानकारी के अनुसार जिले की १ लाख ४० हजार ६२२ हितग्राहियों में मात्र ७६०१२ कार्डधारियों को ही अनाज मिल सका। शेष ६४६१० हितग्राही अनाज से वंचित हैं। विभाग द्वारा फरवरी माह के लिए जिले के ३१२ दुकानों के लिए ३०५३ मीट्रिक टन या ३०५३० क्विंटल खाद्यान्न का वितरण किया था। इसमें चावल १०४२ मीट्रिक टन, गेहूं १८५७ मीट्रिक टन, नमक १३९ मीट्रिक टन, शक्कर १५ मीट्रिक टन हैं। हड़ताल के दौरान जिले की २५ महिला स्वसहायता समूह और १४ उपभोक्ता भंडार द्वारा राशन वितरण कर कुछ हितग्राहियो को अनाज उपलब्ध कराया। लेकिन अब सर्वर ने पूरी व्यवस्था ही प्रभावित कर दिया है।
बॉक्स: अबतक मात्र ५४ फीसदी खाद्यान्न का वितरण
विभागीय जानकारी के अनुसार जिले के १ लाख ४० हजार ६२२ हितग्राहियों में लगभग ५४ फीसदी हितग्राही को ही अनाज उपलब्ध हो सका है। शेष ४६ फीसदी हितग्राही अनाज के लिए आस लगाए बैठे हैं। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि तीन दिनों से सर्वर गड़बड़ी के कारण अब ऑफ लाइन खाद्यान्न वितरण के निर्देश दिए हैं। जिसमें फिलहाल सेल्समैन को निर्देशित किया गया है कि वे वितरण रजिस्टर में हितग्राहियों के नाम और खाद्यान्न मात्रा की जानकारी भरते हुए उन्हें अनाज उपलब्ध कराए। और बाद में उसे मशीन के माध्यम से पर्ची निकाली जाए। फिलहाल नामों की सूची जारी होने में शाम का समय बीत जाएगा, अब आगामी दिन ही अनाज मिल सकेंगे।
बॉक्स: कहंा कितने हितग्राही और अनाज का वितरण
विकासंखड हितग्राही राशन मिला प्रतिशत
अनूपपुर २३३४३ ११४५२ ४९.०५
जैतहरी ४१४८६ २२३९७ ५३.९८
कोतमा १३३३७ ७९७२ ५९.७७
पुष्पराजगढ़ ५१५४३ २६३३३ ५१.०८
नगरपालिका क्षेत्र
अनूपपुर १८९९ १७६४ ९२.८९
जैतहरी ११३५ ५६९ ५०.१३
बिजुरी २३०७ १८८२ ८१.५७
अमरकंटक ९१६ ५१३ ५६.००
पसान १९२९ १३८२ ७१.६४
कोतमा २७२७ १७४८ ६४.०९
वर्सन:
सर्वर की गड़बड़ी के कारण हितग्राहियों को अनाज नहीं मिल पा रहा है। शासन ने ऑफ लाइन से खाद्यान्न वितरण के निर्देश दिए हैं।
एके श्रीवास्तव, जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी अनूपपुर।
------------------------------------

Show More
Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned