सालभर से सौरउर्जा नलजल योजना बेकार, तीन हैंडपम्प के सहारे 250 परिवार

सीएम हेल्पलाइन शिकायत के बाद भी विभाग ने नहीं ली सुधार की सुध, अब पानी के लिए परेशान ग्रामीण

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 28 May 2020, 06:02 AM IST

अनूपपुर। नौतपा की झुलसा देने वाली गर्मी के बीच जनपद पंचायत अनूपपुर अंतर्गत ग्राम पंचायत कदमटोला का पाठटोला पानी की समस्या से जूझ रहा है। यह समस्या पिछले एक साल से बनी हुई है। पंचायत के सबसे अधिक आबादी वाले बैगा प्रजाति, आदिवासी और नामदेव समाज के २५० परिवारों की बसाहट वाला पाठटोला तीन हैंडपम्प के सहारे अपनी पेयजल समस्याओं की पूर्ति कर रहा है। यहां पीएचई विभाग द्वारा पांच हैंडपम्प बोर कराए गए हैं। लेकिन इनमें एक ध्वस्त हो गया है, दूसरा खराब है। अधिक धनत्व और पानी की समस्या को लेकर पीएचई विभाग द्वारा पाठटोला बस्ती के पास सौरउर्जा से संचालित नलजल योजना स्थापित की गई थी। लेकिन अब सौरउर्जा नलजल योजना पिछले एक साल से खराब पड़ा है। पीएचई विभाग द्वारा सालभर से अधिक समय से इसका मेंटनेंस नहीं कराया गया है। विभाग का कहना है कि सौरउर्जा योजना का बजट के माध्यम से मेंटनेंस कराया जाता है, जो अबतक नहीं आया है। ग्रामीण ग्रामीण कोदू लाल का कहना है कि पूर्व में नल जल योजना में आई खराबी को लेकर सीएम हेल्पलाइन में शिकायत दर्ज कराई गई थी। इसके बाद भी लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के द्वारा इसकी मरम्मत नही कराई जा रही हैं। जिसके कारण आमजनों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों की इस बस्ती में महिलाओ व बच्चों को सुबह होते ही पानी के लिए मशक्कत करना आरम्भ हो जाता है। एक तरफ तो महामारी से बचने के लिए शासन ने लोगो को सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए बताया जा रहा है, वही दूसरी तरफ ना चाहते हुए भी पानी के लिए लोगों की भीड़ हैंडपम्पों पर इक्_ी लग जाती है। यहां रोजाना एक हैंडपम्प पर ५०-७० परिवार पानी भरने आते हैं। सुबह और शाम लोगों को कई घंटे तक लम्बी इंतजार के बाद पानी मिल पाता है। ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत कदमटोला में १४ वार्ड हैं, जिनमें पाठटोला वार्डक्रमांक ६ अंतर्गत आता है। इसमें बैगानटोला और पाठटोला शामिल हैं।
बॉक्स: गर्मी में टूट जाता है कि हैंडपम्पों का दम
ग्रामीण बताते है कि गांव में पांच हैंडपम्प हैं, इनमें दो खराब है शेष तीन से पानी भरने का काम किया जाता है। इस वर्ष बारिश अच्छी होने के कारण जलस्तर भी उपर बना हुआ, जिसके कारण हैंडपम्प संचालित हैं, अन्यथा भीषण गर्मी के दौर में एकाध हैंडपम्प छोडक़र शेष सूख जाते है, तब पानी के लिए लोगों को दूर वार्ड के हैंडपम्प से पानी भरना पड़ता है।
-----------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned