scriptThe ash water of the burst dam of the power plant landed in the Son ri | सोन नदी में उतरा पावर प्लांट के फूटे डैम का राखडय़ुक्त पानी | Patrika News

सोन नदी में उतरा पावर प्लांट के फूटे डैम का राखडय़ुक्त पानी

कलेक्टर ने घटना के बारे में प्रमुख सचिव उर्जा और कमिश्नर को जांच कर कार्रवाई के लिए लिखा पत्र

अनूपपुर

Updated: February 17, 2022 11:48:03 am

अनूपपुर। चचाई स्थित कैल्होरी गांव में स्थापित अमरकंटक ताप विद्युत गृह चचाई संयंत्र की राखड़ डैम के फूटने के बाद उसमें भंडारित पानी के साथ राखड़ के बहाव में अब सोननदी भी चपेट में आ गई है। जहां बांध के टांकी नाला से बहते हुए राखड़ डैम का पानी किसानों के खेत में भरने के उपरांत पास ही सोननदी में उतर गई है। जिसमें राखडय़ुक्त पानी के नदी में मिलने से आसपास के पानी का रंग भी राखडय़ुक्त नजर आने लगा है। इसे देखकर आसपास के नदी तट और जलीय जीवों के प्रभावित होने का खतरा मंडराने लगा है। हालंाकि इस पानी के मिलने पर पीसीबी ने इससे सोननदी के पर्यावरणीय जीवन के प्रभावित होने से इंकार किया है। शुरूआती समय में पीसीबी ने पत्रिका के सवालों में सोननदी में राखड़ डैम के फूटे राखडय़ुक्त पानी के उतरने से इंकार किया था। लेकिन अब खुद पीसीबी भी मानती है कि कुछ पानी सोननदी में मिले हैं, लेकिन उसमें राखड़ की मात्रा नहीं है, बल्कि राखड़ के रंगत में सिर्फ पानी है। वहीं जिला प्रशासन ने भी दलील दी है कि सोननदी में राखडय़ुक्त पानी नहीं मिला है। लेकिन डैम से बहा पानी जरूर नदी में उतरा होगा, लेकिन पीसीबी के प्रावधानों के अनुसार डैम के पानी को नदी में उतरने के लिए अपू्रव किया गया है। जिसमें किसी कारणों में अगर डैम का पानी नदी में उतरता है तो राखड़ नहीं जाएगा। वैसे ही यह पहली घटना है, इससे पूर्व राखडय़ुक्त पानी का बहाव नहीं हुआ था। फिर भी मैं इसे दोबारा जांच करवाता हूं। जबकि १०-११ फरवरी की रात डैम के फूटने के बाद पानी तेजी के साथ आसपास के खेतों में जरूर भरा था, ड्रेन सर्वेक्षण और राजस्व टीम की जानकारी में तीन किसानों के द्वारा नाला को नुकसान पहुंचाने के कारण उनके खेतों में राखड़ अवश्य जमा होना पाया गया है। इसके अलावा डैम से बारिश या जरूरत के अनुसार पानी निकासी के लिए बनाया गया टाकी नाला ४ किलोमीटर दूर जाकर शासकीय भूमि में समाप्त हो जाता है, वहां से नदी की कुछ दूरी है। घटना के दिन राखड़ खेतों और नाला में ही जमा हो गया। संभव है कि इनमें से पानी छनकर नदी तक पहुंचा होगा और मिला होगा। लेकिन इनमें राखड़ की मात्रा नामात्र होगी और इससे नदी को नुकसान नहीं होगा।
बॉक्स: प्रमुख सचिव उर्जा और कमिश्नर को लिखा पत्र
कलेक्टर सोनिया मीणा ने बताया कि घटना विभागीय लापरवाही के कारण घटित हुई, डैम का नियमित जांच पड़ताल और मेंटनेंस नहीं किया गया। २००५ में बनाए गए नए डैम से अब तक राखड़ नहीं निकाले गए थे, वहीं नाला में पानी निकासी के लिए बनाए गए पुल के पास मिट्टी और राखड़ के कटाव के कारण पुलिया धसक गया और लगभग लाख लीटर से अधिक पानी राखड़ के साथ बह गया था। इस घटना की जांच के लिए प्रमुख सचिव उर्जा विभाग और शहडोल कमिश्नर को भी पत्र लिखा गया है। जिसमें कारणों की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाए। वहीं कलेक्टर ने बताया कि पटवारी की तरफ से सर्वे किया जा रहा है, वहीं पावर प्लांट प्रबंधन द्वारा भी खेतों से राखड़ को निकाला जा रहा है। किसानों के खतों में लगी फसलों के नुकसान की रिपोर्ट पर आरबीसी ६/४ के कार्रवाई की जाएगी। हालंाकि पावर प्लांट ने किसानों के होने वाले नुकसान के लिए मुआवजा देने का आश्वासन दिया है।
बॉक्स: राजस्व और प्रबंधन ने अब तक नहीं दी रिपोर्ट
कलेक्टर सोनिया मीणा ने बताया कि घटना और आसपास के किसानों को हुए नुकसान मामले में पावर प्लांट और राजस्व विभाग को जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए थे। जिसमें अभी तक राजस्व और पावर प्लांट प्रबंधन द्वारा कोई रिपोर्ट नहीं सौंपा गया है। कलेक्टर ने बताया कि रिपोर्टो के परीक्षण के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
वर्सन:
टाकी नाला से बहे पानी और राखड़ में राखड़ का अधिक बहाव नहीं होने के कारण ये सभी राखड़ आसपास के खेतों और नाला में जमा हो गया था। पानी जरूर नदी में उतरा होगा, लेकिन इनमें राखड़ की मात्रा नहीं है, पीसीबी के अनुसार इससे नदी के पारिस्थितिक को कोई नुकसान नहीं होगा। फिर भी मैं दोबारा जांच करवाती हूं। प्रमुख सचिव उर्जा और कमिश्नर को कार्रवाई के लिए पत्र लिखा गया है।
सोनिया मीणा, कलेक्टर अनूपपुर।
-----------------------------------------------------
The ash water of the burst dam of the power plant landed in the Son ri
सोन नदी में उतरा पावर प्लांट के फूटे डैम का राखडय़ुक्त पानी,सोन नदी में उतरा पावर प्लांट के फूटे डैम का राखडय़ुक्त पानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टपूनियां हत्याकांड में बड़ा अपडेट : चौथे दिन भी नहीं हुआ पोस्टमार्टम, शव उठाने को लेकर मृतक के भाई के घर पर चस्पा किया नोटिसहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का साया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.