अतिक्रमण और गंदगी से सिमटता जा रहा तालाब का अस्तित्व

बिजुरी नगर की मढिय़ा तालाब में बजबजा रही गंदगी

By: Rajan Kumar Gupta

Published: 27 Nov 2020, 11:57 AM IST

अनूपपुर। बिजुरी नगर के मध्य स्थित प्राचीन मढिय़ा तालाब गंदगी तथा अतिक्रमण के कारण दिनोंदिन सिकुड़ता जा रहा है। पूर्व में तालाब बाजार क्षेत्र का महत्वपूर्ण जल स्रोत था, जिससे निस्तार के साथ ही लोग पेयजल के उपयोग में किया करते थे। लेकिन धीरे धीरे पेयजल की व्यवस्था होने के साथ ही इस तालाब की उपयोगिता घटने के कारण स्थानीय लोगों के द्वारा यहां कूड़ा कचरा फेंकने के साथ ही अतिक्रमण कर लिया गया। जिसके कारण तालाब पूरी तरह से गंदगी की चपेट में आ चुका है। नगर पालिका क्षेत्र में जहां स्वच्छता को लेकर विभिन्न गतिविधियां संचालित की जा रही है, वहीं इस प्राचीन जल स्रोत को संरक्षित करने की दिशा में नपा के द्वारा अब तक कोई कदम नहीं उठाए जाने से इसके अस्तित्व पर संकट मंडराने लगा है। बताया जाता है कि स्थानीय लोगों के द्वारा घरों से निकलने वाले कचरे को तालाब में फेंके जाने की वजह से यह पूरी तरह से गंदा हो चुका है। तालाब के किनारे पॉलिथीन तथा पन्नियों का ढेर लगा हुआ है। जिसे देखकर यह लगता है कि नपा के द्वारा कभी इसकी साफ -सफाई पर ध्यान नहीं दिया गया।
एक ओर जहां तालाब अपनी अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है, वहीं दुर्गा मंदिर के समीप स्थित इस तालाब पर कुछ वर्षों से लोगों ने मेड पर अपना अवैध कब्जा करना शुरू कर दिया है। जिससे इसका क्षेत्रफल दिनोंदिन सिकुड़ता जा रहा है। और इसी प्रयास में कूड़े कचरे फेंकते हुए तालाब को पाटने का प्रयास किया जा रहा है जिस पर स्थानीय लोगों के द्वारा रोक लगाने की मांग प्रशासन से की गई है।
बॉक्स: पूर्व में गहरीकरण तथा सीढी निर्माण की बनी थी योजना
स्थानीय लोगों द्वारा बताया गया कि पूर्व में नगर पालिका के द्वारा तालाब को संरक्षित करने तथा इसे बचाने के लिए यहां गहरीकरण के साथ ही सीढ़ी निर्माण की योजना बनाई गई थी। जिसके बाद आज तक इसकी सुध नहीं ली गई। जिसके कारण नगर में प्राचीन जल स्रोत नष्ट होने की कगार पर पहुंच चुके हैं। बिजुरी में अस्तित्व की लड़ाई में लगभग दर्जनों ऐसे तालाब है जहां अब नाम के ही तालाब शब्द रह गए हैं। लेकिन उन तालाबों को संरक्षित और अतिक्रमणमुक्त रखने नगरपालिका का रवैया उदासीन बना हुआ है।
वर्सन:
जल्द ही तालाब की गंदगी को साफ करते हुए इसके सौंदर्यीकरण की योजना बनाई जाएगी। इसके साथ ही अतिक्रमण को हटाने के लिए राजस्व अमले की सहायता ली जाएगी।
पुरुषोत्तम सिंह अध्यक्ष, नगर पालिका बिजुरी।
--------------------------------------

Rajan Kumar Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned