पुलिस दरबार में सुनी जवानों की समस्या

जब आईजी पहुंचे वार्षिक पुलिस परेड में...

By: Shahdol online

Published: 09 Dec 2017, 11:31 AM IST

अनूपपुर. पुलिस पदाधिकारियों व जवानों की टर्न आउट और कर्तव्यों के प्रति तत्परता पर शुक्रवार 8 दिसम्बर की सुबह ९ बजे अनूपपुर पुलिस लाईन में वार्षिक पुलिस परेड का आयोजन किया गया। जहां शहडोल सम्भाग आईजी आईपी कुलश्रेष्ठ सहित पुलिस अधीक्षक अनूपपुर सुनील कुमार जैन ने परेड की सलामी लेकर निरीक्षण किया।

परेड में जवानों की सुस्ती पर आईजी ने पुलिस अधीक्षक से नियमित ड्रील कराने के निर्देश दिए। साथ ही जवानों को थाना प्रभारियों के साथ प्रति शाम को पैदल ही शहर भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्थाओं की मॉनीटरिंग करने का सुझाव दिया। इस मौके पर आईजी ने पुलिस पदाधिकारियों और जवानों द्वारा अकस्मात होने वाले बलवा, या सम्प्रदायिक तनाव माहौल में उनके पुलिस कर्तव्यों के साथ उसे कुचलने की रणनीतियों का फुल रिहर्सल ड्रील देखा। बलवा प्रदर्शन और रोकथाम पर आईजी ने संतुष्टि जताई।

वहीं आईजी ने परेड ग्राउंड में ही दरबार आयोजित कर जवानों की सामूहिक समस्याओं को सुना। दरबार में जवानों ने आवासीय परिसरों में पानी की सुविधा, मुख्य मार्ग से आवास तक पहुंच मार्ग, कैदियों के लाने-ले जाने में जवानों की अधिकतम ड्यूटी, तथा पारिवारिक मिलन समारोह जैसे कार्यक्रम आयोजित कर जवानों के मानसिक तनाव को हद तक कम करने के सुझाव रखे।

जिसपर आईजी आईपी कुलश्रेष्ठ ने जिले में कम पुलिस बल होने की बात स्वीकार करते हुए हाल के दिनों में प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति जैसे उच्च सुरक्षा व्यवस्था वाले कार्यक्रमों को सफलता पूर्वक सम्पन्न कराने अनूपपुर पुलिस की प्रशंसा की। उन्होंने जवानों के सुझाव पर व्यवस्था बनाने पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए।

इस मौके पर पुलिस अधीक्षक ने जिले में कम थानों को देखते हुए वैंकटनगर और देवहरा पुलिस सहायता केन्द्र को चौकी बनाए जाने की रिपोर्ट पीएचक्यू को भेजे जाने की बात कही। सुबह ९ बजे से आरम्भ हुआ
कार्यक्रम 11 बजे सम्पन्न हुआ।

इससे पूर्व आईजी कुलश्रेष्ठ गुरूवार 7 दिसम्बर की रात अनूपपुर जिला मुख्यालय सर्किट हाउस पहुंचे, जहां पुलिस अधीक्षक के साथ इंदिरा तिराहा से न्यायालय परिसर तथा इंदिरा तिराहा से रेलवे फाटक तक पैदल भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। वहीं ८ दिसम्बर की सुबह वार्षिक परेड का निरीक्षण उपरांत एसपी कार्यालय का निरीक्षण किया, जहां रजिस्टरो में दर्ज होने वाली इंट्री के साथ कार्यालय में व्यवस्थाओं को देखा। जबकि दोपहर जिले के सभी थाना प्रभारियों की बैठक बुलाकर महिला अपराध के प्रति सतर्कता, मामला पंजीबद्धता के साथ कार्रवाई, अधिक से अधिक रात्रिगश्त, अवैध कार्यो पर अंकुश तथा मामले में सम्बंधित आरोपियों पर सख्ती से कार्रवाई के निर्देश दिए। बताया जाता है कि आईजी कोतवाली निरीक्षण के उपरांत देहात थानों का निरीक्षण कर रात में वापस शहडोल लौट जाएंगे।

पारिवारिक मिलन समारोह का होगा आयोजन
दोपहर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान आईजी ने पुलिस जवानों की समस्याओं को मीडिया के सामने रखते हुए जवानों के मानसिक तनाव को कम करने तीन माह पर एक बार पारिवारिक मिलन समारोह आयोजित किए जाने की बात कही। उनका कहना था कि इस प्रकार के कार्यक्रम से जवानों के साथ परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अधिकारी आसानी से मिल सकेंगे तथा जवानों की व्यवहारिक आचरणों से भी अवगत हो सकेंगे।

इनका कहना है
शहडोल संभाग के आईजी आईपी कुलश्रेष्ठ के मुताबिक जिले में जवानों की कमी है। कुछ समस्याओं को दूर करने के लिए पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए गए हैं। साथ ही थाना प्रभारियों को जिले में अपराधों पर अंकुश तथा अधिक सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने निर्देशित किया गया है।

Shahdol online
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned