scriptThousands of quintals of paddy stored in open cap got spoiled, paddy l | ओपन कैप में भंडारित हजारो क्विंटल धान हुई खराब, बोरियों में सालभर से बंद धान पड़ी काली | Patrika News

ओपन कैप में भंडारित हजारो क्विंटल धान हुई खराब, बोरियों में सालभर से बंद धान पड़ी काली

बारिश और नमी में बोरियां का किनारा सड़ा, अब मिलर छांटकर धान का कर रहे उठाव

अनूपपुर

Updated: January 05, 2022 10:00:17 pm

अनूपपुर। जिले में वर्ष २०२०-२१ के लिए उपार्जन केन्द्रों पर हुई धान की खरीदी और गोदामों सहित ओपन कैंप में किए गए भंडारण में अब सालभर बाद भंडारित अधिकांश धान खराब हो गई है। ओपन कैप में भंडारित धान के उपर मोटी तिरपाल के कवर भी चढ़ाए गए थे। लेकिन इन कवर को भी छेंद कर बारिश के पानी के साथ मौसमी नमी की मार ने धान को खराब कर दिया है। ओपन कैप की निगरानी में लगाए गए जानकारों के अनुसार एक स्टैक से लगभग १००-१५० क्विंटल से अधि की मात्रा में धान खराब सामने आ रही है, जहां मिलर ओपन कैप में भंडारित धान की स्टैक में खराब धान की बोरियों की छंटाई कर शेष धान की बोरियों को मिलिंग के लिए ले जा रहे हैं। लेकिन इनमें छंटनी के बाद हजारों क्विंटल धान ओपन कैप में बदहाली के रूप में पड़े हुए हैं। अनुमान है कि जिले में भंडारित किए गए धान में प्रत्येक ओपन कैप पर हजारों क्विंटल धान खराब हुई है। पत्रिका की पड़ताल में अनूपपुर जिला मुख्यालय के कृषि उपज मंडी के ओपन कैप में भंडारित १९ स्टैक की धान में अनुमानित लगभग २ हजार क्विंटल धान खराब होना पाया गया है। अभी स्टैक से मिलर को धान उपलब्ध के लिए कैप को खाली कराया जा रहा है। जिसमें यहां लगे १९ स्टैक की धान की बोरियों में लगभग २००० क्विंटल से अधिक की मात्रा में धान खराब की बात कही जा रही है। यहां लगाए गए १९ स्टैक के प्रति स्टैक में ३१०५ बोरी धान भंडारित है। जिसमें प्रति स्टैक २५०-३०० बोरी यानि १०० क्विंटल से १२५ क्विंटल धान खराब है। इस प्रकार २००० क्विंटल से अधिक मात्रा में धान खराब है। बताया जाता है कि बरबसरपुर ओपन कैप में भंडारित रही १ लाख क्विंटल धान में २० हजार क्विंटल धान उठाव के बाद शेष ८० हजार क्विंटल धान में भी अधिक मात्रा में धान खराब के आंकड़े आ रहे हैं। विदित हो कि जिले में वर्ष २०२०-२१ में ७१०२२१.७१ क्विंटल धान का उपार्जन किया गया था।
बॉक्स: बोरियों का किनारा सड़ा, धान पड़ी काली
बोरियों से निकल रहे धान को देखकर लगता है कि यह आग की झुलस में जल गया हो। वहीं स्टैक के किनारे सहित उपर छल्ली में लगी बोरियों का किनारा सडक़र गल गया है। जिसमें अधिकांश बोरियों की धान गिरकर स्टैक के अंदर बेकार हो गई है। जबकि धान की बालियां काली पड़ गई। माना जाता है कि ऐसे धान के मिलिंग से टूटन अधिक मात्रा में आएगा और मिलर को नुकसान होगा। जिसे देखते हुए मिलर खराब धान को छोडक़र बेहतर धान की बोरियों का उठाव कर रहे हैं।
बॉक्स: अब भी गोदामों में ३.५० लाख क्विंटल धान का भंडार
विभागीय जानकारी के अनुसार वर्ष २०२०-२१ के दौरान २९ उपार्जन केन्द्रों पर ७ लाख १० हजार क्विंटल धान की खरीदी की गई थी। जिसमें अब भी अनूपपुर के २३ छोटी-बड़ी गोदामों व ओपन कैप में लगभग ३.५० लाख क्विंटल धान भंडारित हैं, जिनका उठाव मिलिंग के लिए नहीं हो सका है। इसका मुख्य कारण पिछले वर्ष धान मिलिंग में सरकार ने नई नीति घोषित की थी, जिसमें ६० फीसदी चावल का भंडारण एफसीआई के गोदामों में उनके नॉम्र्स के आधार पर किया जाएगा, शेष ४० फीसदी चावल का भंडारण प्रदेश सरकार के गोदामों में किया जाएगा रहे हैं। जिसमें जिले के ११ मिलरों द्वारा सितम्बर माह में किए गए अनुबंध के उपरांत धान के उठाव ज्यादा दिलस्पी नहीं दिखाई। वहीं मिलिंग में बिजली की आपूर्ति निर्बाध नहीं होने के कारण भी मिलिंग का कार्य धीमा रहा।
वर्सन:
खराब धान को वेयरहाउस को सुपुर्द कर दिया जाएगा, जिसमें धान की गुणवत्ता के अनुसार वे आगे की प्रक्रिया पूरी करेंगे। ये जरूर है कि समय से अधिक दिनों तक भंडारित रहने के कारण ओपनकैप में धान खराब अधिक मात्रा में खराब हुए हैं।
विजय डहेरिया, नान प्रबंधक एवं डिप्टी कलेक्टर अनूपपुर।
---------------------------------------------------
Thousands of quintals of paddy stored in open cap got spoiled, paddy l
ओपन कैप में भंडारित हजारो क्विंटल धान हुई खराब, बोरियों में सालभर से बंद धान पड़ी काली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

क्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबVideo: बॉम्बे हाई कोर्ट के जज के चैंबर में मिला 5 फीट लंबा सांप, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यूदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारUP Assembly Elections 2022 : एकाएक राजनीति में उतरकर इन महिलाओं ने सबको चौंकाया, बटोरी सुर्खियांभारत के इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में Adani Group की हो सकती है धमाकेदार एंट्री, कंपनी ने ट्रेडमार्क किया दायरशहीद हेमू कालाणी: आज भी हैं युवा वर्ग के लिए आदर्शDriving License पर पता बदलने के लिए अब नहीं पड़ेगी RTO के चक्कर लगाने की जरूरत, मिनटों में समझे प्रोसेसइंडिया गेट पर जहां लगेगी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति, जानिए वहां पहले किसकी थी प्रतिमा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.