scriptVideo Story- Tourists from all over the country arrive to see this arc | Video Story- अमरकंटक की इस पुरातात्विक मंदिरों को निहारने देशभर से पहुंचते हैं पर्यटक, पुरातत्व विभाग कर रही संरक्षित | Patrika News

Video Story- अमरकंटक की इस पुरातात्विक मंदिरों को निहारने देशभर से पहुंचते हैं पर्यटक, पुरातत्व विभाग कर रही संरक्षित

विरासत: पंच मंदिर समूह अपनी स्थापत्य कला के साथ धार्मिक विरासत की भी पहचान, धरती की गहराई में शिवलिंग

अनूपपुर

Updated: July 12, 2022 11:50:51 pm

अनूपपुर। पवित्र नगरी अमरकंटक मां नर्मदा के उद्गम स्थली के साथ अपनी मनोहारी वादियों और कलचुरी कालीन मंदिर की भव्यता के लिए भी देश भर में जाना जाता है। जहां प्रतिवर्ष लोग अमरकंटक की सुंदरता निहारने तथा मां नर्मदा का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए यहां पहुंचते हैं। इसके साथ ही यहां स्थित प्राचीन पुरातत्व महत्व के स्थापत्य कला भी इस नगर की विशेषताओं में अलग पहचान दे रही है। अमरकंटक में कई प्राचीन शिव मंदिर स्थित है इन्हीं में से नर्मदा मंदिर से दक्षिण दिशा की ओर लगभग 100 मीटर की दूरी पर कलचुरी कालीन पातालेश्वर महादेव, शिव, विष्णु, जोहिला कर्ण मंदिर और पंच मठ मंदिरों का समूह है। इन मंदिरों का निर्माण 10-11 वीं शताब्दी में कलचुरी महाराजा नरेश कर्ण देव ने 1041-1073 ईस्वी के दौरान बनवाया था। जनश्रुति के अनुसार इस मंदिर की स्थापना आद्य गुरु शंकराचार्य ने की थी।
मंदिर सतह से 10 फुट की गहराई पर स्थित है पातालेश्वर महादेव मंदिर
कलचुरी कालीन मंदिर समूह में पातालेश्वर महादेव का मंदिर अन्य मंदिरों से अलग है। यह विशिष्ट प्रकार से पंचरथ शैली में 16 स्तंभों में आधार वाले मंडप सहित मंदिर एवं भूमिज शैली में बना हुआ है। पातालेश्वर महादेव का मंदिर अपने नाम के अनुरूप ही पाताल में स्थित है । यानी यहां शिवलिंग पृथ्वी की सतह से लगभग 10 फीट की गहराई पर स्थित है। इस मंदिर को लेकर लोगों की मान्यता है कि प्रतिवर्ष पातालेश्वर शिवलिंग की जलहरी में श्रावण माह के एक सोमवार को मां नर्मदा यहां भगवान शिव को स्नान कराने पहुंचती हैं। इस दौरान शिवलिंग के ऊपर तक जल भर जाता है। ऐसा केवल श्रावण माह में ही होता है। अन्य समय चाहे कितनी भी वर्षा क्यों ना हो इस प्रकार की घटना घटित नहीं होती है। अमरकंटक आने वाले श्रद्घालु मां नर्मदा के दर्शन के उपरांत इस प्राचीन मंदिर में विराजे भगवान शिव जी का दर्शन करने अवश्य पहुंचते हैं। सावन माह में यहां श्रद्घालुओं का दर्शन के लिए तांता लगता है। वर्तमान में यह स्थल पुरातत्व विभाग के अधीन है।
------------------------------------
Video Story- Tourists from all over the country arrive to see this arc
Video Story- अमरकंटक की इस पुरातात्विक मंदिरों को निहारने देशभर से पहुंचते हैं पर्यटक, पुरातत्व विभाग कर रही संरक्षित

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.