बैंक मैनेजर बन शिक्षक के निकाल लिए 28 हजार

बैंक मैनेजर बन शिक्षक के निकाल लिए 28 हजार

Praveen tamrakar | Publish: Sep, 08 2018 10:54:35 PM (IST) Ashoknagar, Madhya Pradesh, India

बैंक जहां मैसेज कर खाते और एटीएम की गोपनीय जानकारी किसी को न बताने की सलाह दे रही है। इसके बावजूद भी जिले में उच्च शिक्षित लोग भी साइबर डकैती का शिकार बन रहे हैं।

अशोकनगर. बैंक जहां मैसेज कर खाते और एटीएम की गोपनीय जानकारी किसी को न बताने की सलाह दे रही है। इसके बावजूद भी जिले में उच्च शिक्षित लोग भी साइबर डकैती का शिकार बन रहे हैं। खुद को एसबीआई का बैंक मैनेजर बताकर अज्ञात व्यक्ति ने एक शिक्षक को फोन लगाया और एटीएम का नंबर पूछकर शिक्षक के खाते से 28 हजार रुपए निकाल लिए। हालांकि जानकारी मिलते ही पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर यह निकाली गई राशि शिक्षक के खाते में वापस करवाई।

शाढ़ौरा निवासी शिक्षक विवेककुमार पालीवाल पुत्र ओमप्रकाश पालीवाल को एक सितंबर को अज्ञात नंबर से फोन आया। अज्ञात व्यक्ति ने खुद को एसबीआई का बैंक मैनेजर बताया और कहा कि आपका एटीएम कार्ड पुराना हो गया है, नया जारी होना है। यदि नया एटीएम नहीं बनवाया तो आज ही एटीएम कार्ड ब्लॉक हो जाएगा। पूछने पर शिक्षक ने एटीएम कार्ड के पीछे दर्ज नंबर बता दिए और मोबाइल पर आए ओटीपी को भी बता दिया। इससे उस अज्ञात आरोपी ने शिक्षक के खाते से 10 हजार और 18 हजार रुपए निकाल लिए।

जब तक शिक्षक कुछ समझ पाता तब तक खाते से 28 हजार रुपए गायब हो चुके थे। इसकी शिकायत शिक्षक ने एसपी सुनीलकुमार जैन से की। शिकायत पर एसपी ने साइबर क्राइम सेल को निर्देश दिए। साइबर सेल ने त्वरित कार्रवाई कर खाते से निकली राशि शिक्षक के खाते वापस लौटवा दी। इस पर एसपी ने साइबर सेल के प्रभारी संजय गुप्ता, दीपकसिंह बैस और प्रशांत भदौरिया को नगद पुरस्कार की घोषणा की है।
किसी को भी न दें खाते की जानकारी
एसपी सुनीलकुमार जैन ने खाते से होने वाली ठगी को देखते हुए जिलेवासियों को सुझाव दिया है कि वह अपने बैंक खाते, एटीएम, आधार नंबर के बारे में कोई जानकारी फोन पर किसी को भी न दें। क्योंकि बैंक कभी भी फोन पर यह जानकारी किसी से नहीं पूछता। वहीं मोबाइल में आने वाले ओटीपी को भी किसी से साझा न करें।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned