scriptAdinath Bhagwan | आदिनाथ जन्मकल्याणक: रजत पालकी में निकाली भगवान की शोभायात्रा, पालना झुलाकर मनाया आदिनाथ भगवान का जन्मकल्याणक | Patrika News

आदिनाथ जन्मकल्याणक: रजत पालकी में निकाली भगवान की शोभायात्रा, पालना झुलाकर मनाया आदिनाथ भगवान का जन्मकल्याणक


-रजत पालकी में निकाली भगवान की शोभायात्रा, जगत कल्याण के लिए की महाशांतिधारा

अशोकनगर

Published: March 26, 2022 07:52:01 pm




अशोकनगर. दर्शनोंदय अतिशय तीर्थ क्षेत्र थूवोनजी के खड़े बाबा भगवान आदिनाथ का जन्मकल्याणक जैन समाज द्वारा धूमधाम से मनाया गया। जिले के सभी जैन मंदिरों में भगवान को पालना झुलाया गया। वहीं कलशाभिषेक व शांतिधारा के साथ विशेष पूजन की गई।
थूवोनजी में बाल ब्रह्मचारी अंकित भैया व शैलेन्द्र श्रृंगार द्वारा मंत्रोच्चार के साथ जगत कल्याण की कामना से महाभिषेक व महाशांतिधारा कराई गई। महावीर जिनालय से आदिनाथ भगवान को रजत पालकी में विराजमान कर शोभायात्रा निकाली गई। जहां ढोल नगाड़ों पर धर्म ध्वज के साथ श्रद्धालु शामिल हुए। केसरिया साड़ी में जय-जयकार के नारे लगाते व भजन गाते हुए महिलाएं शामिल हुईं। शोभायात्रा आदिनाथ जिनालय पर पहुंचकर धर्मसभा में बदल गई। जहां पांडुकशिला पर चार इन्द्रों ने भगवान का महाभिषेक किया। जिसका सौभाग्य प्रथम इन्द्र के रूप में देवेन्द्र कुमार पीएनबी, जयकुमार सिंघई के साथ अन्य भक्तों को मिला तथा शांतिधारा करने का सौभाग्य महेन्द्र कुमार, देवेन्द्र कुमार, नरेंद्र कुमार, दिलीप जनता, कमलेश कुमार, संजय कुमार, दीपक जैन, सुरेन्द्र कुमार, अनिमेश कुमार सहित अन्य भक्तों को मिला। कमेटी के प्रचार मंत्री विजय धुर्रा ने बताया कि युग के आदि में अषि मषि कृषि विद्या वाणिज्य एवं शिल्प का उपदेश देकर कल्पवृक्षों की समाप्ति पर मानवता को वचाने वाले राजा ऋषभदेव जिन्हें जगत ने आदिनाथ भगवान के रूप में जाना। प्रभु ने बहुत समय तक राज किया लेकिन अचानक निलांजना के निधन को देख इस क्षण भंगुर संसार को छोड़ बैराग्य को धारण कर केवल्य ज्ञान की प्राप्ति की।
बेटियों को शिक्षित करने का संदेश ऋषभदेव ने दिया था
धर्मसभा को संबोधित करते हुए बाल ब्रह्मचारी अंकित भैया ने कहा कि संसार में बेटी को शिक्षित करने का संदेश सबसे पहले राजा ऋषभदेव ने दिया था। उन्होंने अपने सौ पुत्रों को शिक्षा लेने के लिए गुरु कुल भेजा और दो बेटियों को स्वयं ने अंक और अक्षर विद्या का ज्ञान दिया। कमेटी के महामंत्री विपिन सिंघई ने कहा कि अतिशय क्षेत्र दर्शनोंदय तीर्थ थूवोनजी के मूलनायक भगवान आदिनाथ स्वामी की विशाल प्रतिमा के दर्शन करने देशभर से यात्रियों के आने का सिलसिला बढ़ रहा है। इस दौरान रानी पिपरई, राजेश बंसल, प्रमोद वकील सहित शानिवार मंडल के सदस्य उपस्थित रहे।
आदिनाथ जन्मकल्याणक
आदिनाथ जन्मकल्याणक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

हरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनगेहूं के निर्यात पर बैन पर भारत के समर्थन में आया चीन, G7 देशों को दिया करारा जवाबLIC IPO : एलआईसी आईपीओ आज होगा सूचीबद्ध, इतने रुपए पर होगी लिस्टिंगमध्यप्रदेश: दो समुदायों में तनाव के बाद देर रात नीमच सिटी में धारा 144 लागू'हिन्दी' बॉक्स ऑफिस पर 'बादशाहत': दक्षिण की फिल्मों का धमाल बॉलीवुड के लिए कड़ी चुनौतीHoroscope Today 17 May 2022: आज इन राशि वालों के जीवन में होगा मंगल ही मंगल, आर्थिक कष्टों का निकलेगा हल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.