मजदूरी पर नहीं पहुंचा युवक तो घर से खींचकर लाए और पेड़ से बांधकर की पिटाई पुलिस पहुंची तो कर दिया पुलिस पर हमला

- रात में तीन थानों की पुलिस ने पहुंचकर छुड़ाया बंधक युवक को तो महिलाओं ने गाड़ी के आगे आकर रोका, सेहराई थाने के देवपुर चक्क गांव का मामला

अशोकनगर. जब एक युवक मजदूरी पर नहीं पहुंचा तो उसे मालिक द्वारा घर से खींचकर लाकर पेड़ से जंजीरों से बांधकर मारपीट की। सूचना पर छुड़ाने पहुंची पुलिस के साथ भी आरोपियों ने धक्का मुक्की व मारपीट कर दी। जिसके बाद तीन थानों की पुलिस ने पहुंचकर बंधक युवक को छुड़वाया। मामला सेहराई थाने के देवपुर चक्क गांव में रविवार रात 8.30 बजे का है।

पुलिस से प्राप्त जानकारी अनुसार दलवीर सिंह पुत्र काबल सिंह सिक्ख को बलदेव सिंह सिक्ख, सुखदेव सिंह, राजदीप सिंह, गुरूमेज सिंह घर से खींचकर उठा लाए और जंजीरों से पेड़ से बांधकर मारपीट कर रहे थे। रिश्तेदारों की सूचना पर पुलिस पहुंची तो आरोपी पुलिस के साथ भी झगड़ा करने लगे और एसआई सुमन किशोर लाकड़ा के साथ गाली गलौंच करते हुए धक्का मारे, झूमा झटकी की।

एसआई की सूचना पर चंदेरी, मुंगावली, सेहराई थाने का पुलिस बल पहुंचा इसके बाबजूद भी आरोपियों की औरतें युवक को जंजीर से खोलने नहीं दे रही थी। पुलिस ने काफी समझाइश दी लेकिन नहीं माने औरतें भी पुलिस को गालियां दे रही थी। पुलिस ने जब युवक को छुड़ाकर गाड़ी में बैठाया तो सभी आरोपी लाठियां लेकर गाड़ी के आगे आकर रोकने लगे। किसी तरह पुलिस युवक को छुड़ाकर थाने लेकर पहुंची।

आरोपियों का कहना था कि दलवीर सिंह को हमने तीन साल पहले १० हजार रुपए मजदूरी करने के लिए दिए थे लेकिन उसने पैसे भी रख लिए और मजदूरी भी नहीं की और दूसरी जगह मजदूरी करने लगा। वहीं युवक का कहना था कि मैने इनके यहां मजदूरी कर दी थी अब यह जबरदस्ती मजदूरी करवाना चाहते है।

पुलिस ने एसआई सुमन किशोर लाकड़ा की शिकायत पर बलदेव सिंह, सुखदेव सिंह, गुरूमेज सिंह सिक्ख, राजदीप सिक्ख, राजविंदर सिंह गौर, रतनजोत गौर के विरुद्ध धारा ३५३, ३३२, २९४, १८६, ३४ आईपीसी व एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। वहीं दलवीर की शिकायत पर धारा ३२३, ३२४, २९४, ५०६, ३४२ व ३४ आईपीसी के तहत मामला दर्ज कर जांच में लिया है। सभी आरोपी फरार हो गए है।

Arvind jain
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned