कांग्रेस: केंद्र कर रही भेदभाव तो भाजपा बोली: सम्मान निधि व एक हजार करोड़ का दें हिसाब

- फिर छाया किसान मुद्दा: किसानों के मुद्दे पर भाजपा ने प्रदेश तो कांग्रेस ने केंद्र सरकार को बताया जिम्मेदार।
- भाजपा ने प्रेसवार्ता कर गिनाईं प्रदेश सरकार की नाकामियां, कांग्रेस ने सीटी बजाकर निकाली रैली जताया विरोध।

अशोकनगर@अरविंद जैन की रिपोर्ट...

किसानों की दुर्दशा और परेशानियों के लिए भाजपा ने राज्य सरकार को तो कांग्रेस ने केंद्र सरकार को जिम्मेदार बताया। भाजपा ने प्रेसवार्ता कर प्रदेश सरकार की नाकामियां गिनाईं और कहा कि प्रदेश सरकार पहले किसान सम्मान निधि और केंद्र से मुआवजा के लिए मिले एक हजार करोड़ रुपए का हिसाब दे। तो वहीं कांग्रेस ने सीटी बजाकर रैली निकाली और सांसद के घर पहुंचकर दरवाजे पर ज्ञापन चस्पा किया।

भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य और गुना के पूर्व जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारीक ने प्रेस वार्ता कर बताया कि प्रदेश सरकार किसानों को गुमराह कर रही है, यूरिया, बिजली व पानी भी किसानों को समय पर नहीं मिल रहा है। किसानों की लंबी लाइनें लग रही हैं।

साथ ही कहा कि कांग्रेस ने खुद झूठी घोषणाएं कर चुनाव में किसानों को गुमराह कर सरकार तो बना ली, लेकिन अब उन घोषणाओं को पूरा न कर केंद्र सरकार पर आरोप लगा रही है। भाजपा ने चेतावनी दी कि यदि प्रदेश सरकार ने किसानों को और परेशान किया तो भाजपा प्रदर्शन करेंगी और मुख्यमंत्री निवास व विधानसभा का घेराव करेगी। इस दौरान पूर्व जिलाध्यक्ष जयकुमार सिंघई, नपाध्यक्ष सुशीला साहू, जयमंडलसिंह यादव, सचिन चौधरी, अशोक पाटनी, रचना नायक आदि उपस्थित रहे।


कांग्रेस विधायकों ने सीटी बजाकर सांसद के घर तक निकाली रैली-
केंद्र सरकार पर प्रदेश के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए और किसानों की समस्या के लिए केंद्र को जिम्मेदार बताकर कांग्रेस ने सीटी बजाकर रैली निकाली।

विधायक बृजेंद्रसिंह यादव और जजपालसिंह जज्जी कार्यकर्ताओं के साथ गांधी पार्क से एकत्रित होकर सीटी बजाते हुए भाजपा सांसद के घर तक पहुंचे। जहां पर विधायक बृजेंद्रसिंह ने ज्ञापन का वाचन किया और ज्ञापन को सांसद के घर के दरवाजे पर चस्पा कर दिया। दोनों विधायकों ने आरोप लगाया कि सांसद को भी जनता ने चुना है लेकिन सांसद किसानों की समस्या पर केंद्र से राशि की मांग नहीं कर रहे हैं।

कांग्रेस: केंद्र कर रही भेदभाव, भाजपा: सम्मान निधि व एक हजार करोड़ का दें हिसाब

भाजपा ने यह बताईं प्रदेश सरकार की नाकामियां -

- कांग्रेस सरकार किसानों को गुमराह कर रही है, 10 दिन में दो लाख रुपए कर्जमाफ की बात कही लेकिन 11 महीने में भी नहीं की। ऋणमाफी की गलत जानकारी देने वाले अधिकारियों पर भी कोई कार्रवाई नहीं की।

- किसानों को खाद, बिजली और पानी भी समय पर मुहैया नहीं कराया जा रहा है, प्रदेश को 15 साल पुरानी स्थिति में ला दिया और खाद व अन्य चीजों के लिए फिर से लंबी लाइनें लगने लगी हैं।

- प्रदेश में सरकार कोई विकास नहीं करा पाई, तबादला उद्योग जरूर प्रदेश सरकार ने खोल लिया है। प्रदेश सरकार किसान सम्मान निधि की राशि किसानों के खातों में नहीं डाल रही और केंद्र को जानकारी भी नहीं दे रही।

- अतिवृष्टि और बाढ़ से बर्बाद हुई फसलों पर केंद्र सरकार ने प्रदेश के किसानों को एक हजार करोड़ रुपए दिए, लेकिन प्रदेश सरकार किसानों को मुआवजा तक नहीं बांट रही। किसानों की भावांतर व बोनस राशि भी कांग्रेस खा गई।

कांग्रेस ने केंद्र पर लगाया भेदभाव का आरोप-
- 22 योजनाओं में केंद्र से प्रदेश को 32713 करोड़ रुपए मिलना हैं, लेकिन अब तक सिर्फ 9045 करोड़ रुपए ही दिए। राज्य ने फसल बीमा के 509 करोड़ दिए लेकिन केंद्र ने अपना अंश देने से इंकार कर दिया।

- फसलों में नुकसान पर मुआवजा बांटने से केंद्र से छह हजार 621 करोड़ रुपए मांगे थे, लेकिन केंद्र सरकार ने प्रदेश सरकार को सिर्फ एक हजार करोड़ रुपए ही दिए। प्रदेश के साथ भेदभाव किया जा रहा है।

- विधायक जजपालसिंह ने कहा कि सांसद को भी लोगों ने वोट देकर चुना है, लेकिन सांसद ने क्षेत्र के किसानों के लिए प्रधानमंत्री से एक भी बार राशि नहीं मांगी है, केंद्र की रेलवे है जो ट्रेक पर यूरिया के रैक का परमिट नहीं दे रही।

- विधायक बृजेंद्रसिंह यादव ने कहा कि प्रदेश में भाजपा के 28 सांसद हैं, जो कुंभकर्ण की नींद सो रहे हैं। नुकसान के समय खेतों पर घूमकर सांसदों ने आश्वासन दिया था, लेकिन किसानों के लिए केंद्र से राशि नहीं मांग रहे।

BJP
Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned