गोदाम मालिक, वन समिति व स्वसहायता समूह भी चला सकेंगे इस बार खरीद केंद्र

समर्थन मूल्य खरीद: 43 हजार 242 किसानों ने कराए पंजीयन, पिछले साल से 19 हजार 902 ज्यादा।

By: Bharat pandey

Published: 28 Feb 2021, 12:19 AM IST

अशोकनगर। समर्थन मूल्य पर अनाज की खरीदी हर साल सेवा सहकारी समितियां व मार्केटिंग सोसायटी करती हैं। लेकिन इस बार गोदाम मालिक, महिला स्व-सहायता समूह, वनोपज समिति और किसान उत्पादन संगठक संगठन भी खरीदी केंद्र चला सकेंगे। इसके लिए शासन ने गाइडलाइन में अन्य संस्थाओं को शामिल किया है।

खाद्य आपूर्ति विभाग के मुताबिक शासन की गाइडलाइन अनुसार अन्य संस्थाओं को समर्थन मूल्य खरीदी केंद्र संचालित करने मौका दिया है, लेकिन उन्हें कुछ शर्तें भी निर्धारित की हैं। 25 मार्च से जिले में समर्थन मूल्य पर अनाज की खरीद होना है, लेकिन यदि कोई गोदाम संचालक, किसान उत्पादक संगठन, वनोपज समिति या महिला स्वसहायता समूह अनाज की शासकीय खरीद करना चाहते हैं तो उन्हें पांच मार्च तक अपनी संस्था के माध्यम से आवेदन करना होगा। लेकिन किन संस्थाओं व समितियों को खरीदी केंद्र बनाया जाना है, इसका निर्णय जिला उपार्जन समिति करेगी।


गाइडलाइन में संस्थाओं को खरीदी केंद्र के लिए यह शर्तें-
- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के पंजीकृत महिला स्वसहायता समूह जिनके द्वारा तीन वर्ष में माइक्रो के्रडिट से काम किया गया हो। उन्हें उपार्जन कार्य सौंपा जा सकेगा।


- मप्र वेयरहाउसिंग एंड लॉजिस्टिक्स कार्पोरेशन द्वारा संयुक्त भागीदारी योजना अंतर्गत अनुबंधित तीन हजार मेट्रिक टन या अधिक क्षमता वाली गोदामों के संचालकों को भी उपार्जन सौंपा जा सकेगा।


- वन मंडलाधिकारी से अनुशंसित वनोपज सहकारी समिति या संयुक्त वन प्रबंधन समिति को उपार्जन कार्य सौंपा जा सकेगा, जिनके पास पर्याप्त राशि हो या सहकारी बैंक से कैश क्रेडिट सीमा स्वीकृत हो।


- किसान उत्पादक संगठन जो तीन वर्ष पूर्व से पंजीकृत हैं और उपार्जन कार्य करने में सक्षम हैं, उन्हें भी उपार्जन कार्य सौंपा जा सकेगा।

 

पंजीयनों पर एक नजर-
कुल पंजीयन- 43242
गेहूं पंजीयन- 37976
चना पंजीयन- 19416
मसूर पंजीयन- 5390
सरसों पंजीयन- 4441
पिछले वर्ष के पंजीयन- 23340
(आंकड़े खाद्य विभाग अनुसार।)

Show More
Bharat pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned