अगले आदेश तक खाली बैठेंगे सीईओ, अपर कलेक्टर ने संभाला पदभार

अगले आदेश तक खाली बैठेंगे सीईओ, अपर कलेक्टर ने संभाला पदभार
Ashok nagar

veerendra singh | Publish: Oct, 03 2016 11:25:00 PM (IST) Ashoknagar, Madhya Pradesh, India

स्वच्छ भारत मिशन योजना में नहीं हुआ काम, इंदिरा आवास योजना में फिसड्डी रहा जिला, मात्र 7 प्रतिशत प्रगति


अशोकनगर.
जिपं सीईओ एमएल वर्माफिलहाल अगले आदेश तक खाली बैठेंगे।उनके स्थान पर अपर कलेक्टर एचपी वर्माने सोमवार को पदभार संभाल लिया है। जिपं सीईओ के बाद स्वच्छ भारत मिशन के जिला व जनपद पंचायत समन्वयकों व एपीओ पर भी कार्रवाईकी तलवार लटक रही है। उन्हें नोटिस जारी कर दिए गए हैं।

उल्लेखनीय हैकि एक दिन पहले ही जिपं सीईओ पर कार्रवाईकरते हुए उनके सारे अधिकार छीन लिए गए थे और अपर कलेक्टर को जिपं सीईओ का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया था। इसके साथ ही  साथ ही स्वच्छ भारत अभियान में फिसड्डी रहने पर जिपं में अभियान की समन्वयक सरिता बसंल सहित चारों जनपद पंचायतों के समन्वयकों को भी नोटिस जारी किया गया है। जिपं में एपीओ लखन किरार को भी इंदिरा आवास योजना में काम न होने के कारण निशाने पर रखा गया है।

उल्लेखनीय है कि स्वच्छ भारत मिशन में जिला प्रदेश में 51वें नंबर पर है।यानी प्रदेश के 50 जिले अशोकनगर से आगे हैं। जिससे जिले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का स्वच्छ भारत का सपना टूटरहा है। खुले में शौच से मुक्ति का अभियान ठीक ढंग से शुरू भी नहीं को सका। सोमवार को आनन-फानन में सचिवों व सहायक सचिवों की बैठक बुला ली गई।

जिले केवल स्वच्छ भारत अभियान में ही फिसड्दी नहीं है।जिले में इंदिरा आवास योजना की स्थिति भी दयनीय है।इसमें जिला 7.35 प्रतिशत प्रगति के साथ 51वें पायदान पर है।प्रदेश स्तरीय हाईलेबल फिजिकल प्रोगे्रस रिपोर्ट के अनुसार वर्ष2011 से 2015 तक 4 हजार 679 के लक्ष्य के विरुद्ध केवल 344 कुटीर ही बनकर तैयार हुए। इस पर अपर मुख्य सचिव ने नाराजगी जताते हुए कार्रवाईके निर्देश दिए हैं। फिलहाल जिपं में इंदिरा आवास योजना का काम एपीओ लखन किरार देख रहे हैं।

जिला पंचायत में इंदिरा आवास योजना पूरी तरह हौच-पौच चल रही है।न तो समय पर कुटीर स्वीकृत हो रही हैं और न ही उनकी किश्तें जारी जा रही हैं।जिसके कारण योजना में जिला लगातार पिछड़ता जा रहा है।पहले भी एक हितग्राही की शिकायत पर जनपद सीईओ व जिपं में शाखा प्रभारी पर कार्रवाई हो चुकी है।हितग्राही को दूसरी किश्त जारी नहीं की गईथी। जिले में अभी भी ऐसे कईमामले हैं, जहां हितग्राही किश्त का इंतजार कर रहे हैं।इस संबंध में जब शाखा प्रभारी को फोन लगाया तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

इस संबंध में जिपं सीईओ एमएल वर्मासे बात की गईतो उन्होंने सारा ठीकरा अपने अधीनस्थ स्टाफ व जनपद पंचायतों के सीईओ पर फोड़ दिया।उन्होंने बताया कि स्टाफ की कमी और अधीनस्थ कर्मचारियों का सहयोग न मिलने के कारण लक्ष्य पूरे नहीं कर सके। जनपदों में सीईओ काम नहीं कर रहे हैं।

जिपं सभाकक्ष में सोमवार को आनन-फानन में स्वच्छभारत अभियान की बैठक आयोजित की गई। जिसमें पंचायत सचिव व सहायक सचिवों को बुलाया गया था।जनपद सीईओ व एसडीएम भी बैठक में उपस्थित रहे। भोपाल से आए कोर्डिनेटर दिनेश देशराजन ने सचिवों को आवश्यक निशा-निर्देश दिए। बैठक में भी कुर्सियां कम पड़ जाने के कारण कईसचिवों को खड़े रहना पड़ा।

बैठक में हॉल के अंदर जगह न होने के कारण कुछ सचिव बाहर गैलरी में आकर बैठ गए।अंदर बैठक चलती रही हैवे बाहर मोबाइल से खेलते रहे।इसके साथ ही बैठक में भी कईसचिव झपकी लेते नजर आए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned