सीएमओ, आरआई सहित कर्मचारियों के बयान दर्ज

पिछले नगरपालिका परिषद में हाईमास्ट खरीदी में घोटाले की शिकायत के बाद मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस

By: मुकेश शर्मा

Published: 11 Aug 2015, 11:27 PM IST

अशोकनगर।पिछले नगरपालिका परिषद में हाईमास्ट खरीदी में घोटाले की शिकायत के बाद मंगलवार को लोकायुक्त पुलिस की जांच टीम अशोकनगर पहुंची और नपा सीएमओ, आरआई सहित अन्य संबंधित कर्मचारियों के बयान दर्ज किए गए।


उल्लेखनीय है कि पूर्व पार्षद देवेन्द्र ताम्रकार द्वारा इस मामले की शिकायत अप्रैल 2015 में लोकायुक्त पुलिस ग्वालियर से की गई थी। इस मामले में लोकायुक्त पुलिस ग्वालियर से इंस्पेक्टर अतुलसिंह एवं मनीष शर्मा ने मंगलवार को रेस्ट हाउस में बयान दर्ज किए और खरीदी से संबंधित सभी दस्तावेज प्राप्त किए। इस संबंध में आवेदक एवं उनके द्वारा प्रस्तुत गवाहों के कथन भी लिए गए।

पूर्व नपाध्यक्ष जजपालसिंह जज्जी बयान दर्ज कराने नहीं पहुंचे। इस पर अतुलसिंह ने बताया कि उन्हें नोटिस देकर बुलाया जाएगा, साथ ही शुभम इलेक्ट्रिकल्स इंदौर के संचालक के भी बयान लिए जाएंगे। हाईमास्ट लाइट खरीदी का ठेका उसे ही दिया गया था।

किया भौतिक सत्यापन

नगर में गांधी पार्क, अस्पताल चौराहा, विमानों का चबूतरा, तुलसी सरोवर, मुक्तिधाम, शंकर कॉलोनी, पुराना बस स्टैंड व नया बस स्टैंड पर हाईमास्ट लाइट लगाई गई थीं।

लोकायुक्त की टीम ने उक्त सभी स्थानों पर जाकर भौतिक सत्यापन भी किया। इंस्पेक्टर अतुलसिंह ने बताया कि टीएस समिति तय करेगी कि खरीदी में एग्रीमेंट की शर्तो व नियमों का पालन किया गया है या नहीं। सामग्री घटिया तो नहीं है, या अन्य कोई अनियमितता तो नहीं बरती गई।

ये थी शिकायत

पूर्व पार्षद देवेन्द्र ताम्रकार ने अपनी शिकायत में बताया था कि सीएमओ पीके सिंह, पूर्व नपाध्यक्ष जजपालसिंह जज्जी व आरआई शमशाद पठान ने शुभम इलेक्ट्रिकल इंदौर को गलत तरीके से हाईमास्ट सप्लाई का ठेका दिया, और 58.76 लाख रूपए का घपला किया है।

Show More
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned