scriptcollege admission | कॉलेज प्रवेश: हर साल कॉलेज में सीटें बढ़ाने की होती थी मांग, इस बार बार खाली पड़ीं | Patrika News

कॉलेज प्रवेश: हर साल कॉलेज में सीटें बढ़ाने की होती थी मांग, इस बार बार खाली पड़ीं


यूजी में 44फीसदी व पीजी में 67 फीसदें सीटें खाली, कारण: कम ही हुए आवेदन

अशोकनगर

Published: June 27, 2022 09:27:41 pm


अशोकनगर. जहां हर साल कॉलेज में प्रवेश में सीटें बढ़ाने की मांग होती थी और छात्रों को प्रवेश पाने परेशान होना पड़ता था। लेकिन इस बार जहां कॉलेज लेवल की तीसरी काउंसलिंग चल रही है और अभी कॉलेज में स्नातक की ५५ फीसदी व स्नातकोत्तर की ६७ फीसदी सीटें खाली पड़ी हुई हैं। जो अब तक भर नहीं सकी हैं।
मामला शासकीय नेहरू स्नातकोत्तर महाविद्यालय का है। जहां स्नातक प्रथम वर्ष के तीनों संकायों में २५१० सीटें हैं, जिन पर प्रथम वर्ष में छात्रों को प्रवेश दिया जाता है। लेकिन इस बार कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष में १३९० सीटें अभी खाली पड़ी हुई हैं। वहीं यही स्थिति स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर की है, जिसमें १०९० सीटों में से अभी ७४१ सीटें खाली पड़ी हुई हैं। जबकि कॉलेज लेवल काउंसलिंग के दूसरे राउंड की प्रक्रिया के दस्तावेजों का सत्यापन चल रहा है, स्नातक में २९ जून व स्नातकोत्तर में ३० जून तक दूसरे राउंड का सत्यापन चलेगा। साथ ही कॉलेज लेवल काउंसलिंग का तीसरा राउंड चल रहा है।
आटर््स में सबसे ज्यादा सीटें खाली पड़ीं-
कॉलेज से मिली जानकारी अनुसार बीए प्रथम वर्ष में १७०० सीट में से ७९२ ही प्रवेश हुए हैं और अभी ९०८ सीट खाली पड़ी हैं। वहीं बीकॉम में ३१० सीटों में से १२५ पर प्रवेश हुए और अभी १८५ सीटें खाली हैं। यही स्थिति बीएससी प्रथम वर्ष की जहां ५०० में से ३०० सीटें खाली पड़ी हैं। इसके अलावा एमए प्रथम सेमेस्टर में ९०० में से २९८ एडमिशन हुए हैं और ६०२ सीट खाली हैं, वहीं एमकॉम में ११० सीट में से २१ एडमिशन हुए और ८९ सीटें खाली हैं। इसके अलावा एमएससी में ८० में से ५० सीटें खाली पड़ी हुई हैं।
कारण: सीबीएसई व स्नातक अंतिम वर्ष का नहीं आया रिजल्ट-
कॉलेज के मुताबिक अभी सीबीएसई का रिजल्ट नहीं आया है, इससे सीटें खाली हैं। साथ ही स्नातक अंतिम वर्ष का रिजल्ट न आने से स्नातकोत्तर प्रथम वर्ष की सीटें खाली हैं। दूसरा कारण यह भी बताया जा रहा है कि पहले जिले के ज्यादातर छात्र इसी कॉलेज में प्रवेश लेते थे, लेकिन जिले में तीन नए कॉलेज खुल जाने से ग्रामीण क्षेत्र के छात्र-छात्राएं अपने नजदीक के कॉलेज में ही प्रवेश ले रहे हैं। इससे सीटें खाली हैं, हालांकि अंतिम काउंसलिंग में इनके भरने की संभावना है।
college admission
college admission

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगOne MLA-One Pension: कैप्टन समेत पंजाब के इन बड़े नेताओं को लगेगा वित्तीय झटकाइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़हर घर तिरंगा अभियान CM योगी ने झंडा लगाकर की शुरुआतपिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.