चार साल बाद फिर 15 डिग्री पर दिन का पारा, पहली बार दिन-रात का एक सा तापमान

बारिश और घना कोहरा: जिले में 8.7 मिमी हुई बारिश, लगातार 48 घंटे से घने कोहरे की चपेट में जिला।
- लगातार 48 घंटे से छाए घने कोहरे से मध्यभारत मेंं दिख रहा उत्तर भारत सा नजारा।

अशोकनगर. राजस्थान में बने सर्कुलेशन से जिलेभर में रात के समय तेज बारिश हुई, जो फसलों के लिए लाभदायक है। लेकिन जिला पिछले 48 घंटे से लगातार घने कोहरे की चपेट में हैं। बारिश की वजह से चार साल बाद फिर से दिन का पारा 15 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज हुआ और पहली बार दिन व रात का तापमान एक जैसा रहा। साथ ही शाम होते ही मौसम में तेज सर्दी बढ़ गई।


रात से गुरुवार सुबह तक जिले में 8.75 मिमी बारिश दर्ज हुई। सबसे ज्यादा अशोकनगर क्षेत्र में 14 मिमी और चंदेरी में 10 मिमी बारिश हुई। इसके अलावा दिन में भी कई बार हल्की बूंदाबांदी हुई। इससे खेत पानी से तर हो गए और सड़कें कीचड़ में तब्दील हो गईं। बारिश से फसलों को पानी मिल गया और किसानों का कहना है कि फसलों की सिचाई के डीजल पर उनका लाखों रुपए का खर्चा बच गया। मौसम विभाग ने जिले में आज भी गरज-चमक के साथ बारिश होने का अनुमान बताया है। साथ ही चार साल बाद दिन सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा।


सीजन में पहली बार दिन-रात का एक सा रहा तापमान-
दिन का अधिकतम तापमान 15.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 8.3 डिग्री सेल्सियस कम रहा। इससे दिनभर कड़ाके की सर्दी जारीर ही और लोग दिन में भी अलाव पर तापते नजर आए। वहीं रात का न्यूनतम तापमान 13.8 डिग्री सेल्सियस रहा, जिसमें बढ़ोत्तरी का कारण आसमान में छाए बादलों को बताया जा रहा है।

इससे गुरुवार को दिन और रात का तापमान एक सा रहा और दिन-रात के तापमान में पहली 1.9 डिग्री सेल्सियस का अंतर रहा। इससे पहले दो जनवरी 2015 को अधिकतम तापमान 15 डिग्री और 19 जनवरी 2016 को अधिकतम तापमान 15.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।


48 घंटे से छाए कोहरे से नुकसान की आशंका-
कई वर्ष बाद जिला लगातार 48 घंटे से घने कोहरे की चपेट में हैं। मंगलवार को शाम सात बजे से जिले में छाया घना कोहरा गुरुवार शाम सात बजे केे बाद भी जारी रहा। इससे पहली बार जिले में उत्तर भारत सा नजारा रहा। हालांकि किसान और कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि जहां लंबे समय से लगातार आसमान में छाए बादलों से फसलों की ग्रोथ रुक गई है, तो वहीं लगातार 48 घंटे से छाया घने कोहरे से फसलों में नुकसान की आशंका है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि चना, मसूर में फूल आने की प्रक्रिया चल रही है, ऐसे में फूल में कोहरा भर जाने से फूल मरने का डर रहता है, वहीं गेहूं में भी यदि कोहरा भर गया तो बालियां नहीं निकल पाएंगी।


रात में जिले में हुई बारिश-
ब्लॉक बारिश
अशोकनगर 14
चंदेरी 8
ईसागढ़ 10
मुंगावली 3
औसत जिला 8.75
(बारिश मिमी में।)
जिले के सात दिन के तापमान पर एक नजर-


दिनांक अधिकतम न्यूनतम
10 जनवरी 19.8 5.0
11 जनवरी 22.0 5.0
12 जनवरी 26.0 7.6
13 जनवरी 27.6 7.5
14 जनवरी 24.2 14.0
15 जनवरी 18.6 13.0
16 जनवरी 15.7 13.8
(तापमान डिग्री सेल्सियस में।)



कोहरा फसलों के फूल के लिए नुकसानदायक होता है, हालांकि बारिश भी हो रही है। इससे नुकसान की संभावना कम है। हालांकि यदि आगे भी कोहरा जारी रहा तो नुकसान की आशंका है। क्योंकि कोहरा फूल के लिए नुकसानदायक होता है। क्योंकि पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया से मजबूत होते हैं, जिसके लिए हवा-पानी के साथ पर्याप्त धूप भी जरूरी है।
डॉ. जीएस गुप्ता, कृषि वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केंद्र अशोकनगर

Show More
Arvind jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned