24 घंटे इंतजार के बाद भी नहीं ली उपज नाराज किसानों ने किया चक्काजाम

एक घंटा तक चलता रहा हंगामा, एसडीएम, तहसीलदार सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे...

 

By: brajesh tiwari

Published: 25 Apr 2018, 10:57 AM IST

अशोकनगर. चौबीस घंटे इंतजार करने के बाद भी जब सर्वेयर ने किसानों की फसल को नहीं देखा तो किसान भड़क गए और उन्होंने गुना-अशोकनगर रोड पर चक्काजाम कर दिया। अपने ट्रेक्टर-ट्राली सड़क पर आड़े खड़े कर सैंकड़ों किसानों ने लगभग एक घंटे तक हंगामा किया।

रातीखेड़ा पर शिवम वेयर हाउस पर सेवा सहकारी समिति बरोदिया और सेवा सहकारी समिति ऊमरी की खरीदी की जा रही है। दोनों ही केन्द्रों पर सोमवार को किसानों को मैसेज कर बुला तो लिया गया लेकिन मंगलवार दोपहर तक भी उनकी ट्राली नहीं तौली गईं।

किसान इंतजार करते-करते परेशान हो गए। किसान संघ को इसकी जानकारी मिली तो संगठन के अध्यक्ष राजकुमार सिंह रघुवंशी सहित अन्य सदस्य मौके पर पहुंचे। जहां सर्वेयर व समिति प्रबंधक के न मिलने पर उन्होंने किसानों को लेकर चक्काजाम कर दिया।

 

केन्द्र पर एक दिन पहले से तो किसान खड़े ही थे।मंगलवार के लिए जिन किसानों को एसएमएस मिला था, वे भी अपने ट्रेक्टर-ट्राली लेकर केन्द्र पर पहुंच गए।सैंकड़ों की संख्या में ट्रेक्टर-ट्राली केन्द्र पर खड़े थे और सुबह से नेफेड का सर्वेयर नदारद था। दोपहर बाद गाड़ी से सर्वेयर आया और बाहर खड़ी कुछ ट्रालियों को देखकर तौलने का कहा।

 

इसके बाद वापस लौट गया। जिससे किसान भड़क गए।अंदर जो किसान पहले से खड़े थे, उन तक सर्वेयर पहुंचा ही नहीं। इस दौरान किसान संघ के हरमीतसिंह, रामकिशन सहित अन्य सदस्य मौजूद रहे।

 

जाम की जानकारी लगते ही एसडीएम सुमनलता माहौर, तहसीलदार सूर्यकांत त्रिपाठी सहित पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई। किसानों को समझाकर जाम खुलवाया गया। इसके बाद सभी केन्द्र पर पहुंचे।

जहां समिति प्रबंधक नदारद थे। फोन लगाकर उन्हें बुलाया गया तो वे काफी देर बाद आए और सर्वेयर ने तो कॉल रिसीव ही नहीं किया। देर से आने पर एसडीएम ने समिति प्रबंधक को लताड़ भी लगाई।

ये लगाए आरोप
- सुबह से मैसेज तो भेज दिए लेकिन ट्रालियां नहीं तुलीं, कई किसानों के सेंपल फैल कर दिए।
- सर्वेयर दस मिनट के लिए आया था और सेटिंग करके भाग गया।
- सेंपल में ज्यादा माल लिया जा रहा है। इसके बाद एसडीएम ने सेंपल चैक किए।
- पैसा लेने के अच्छा माल भी रिजेक्ट किया जा रहा है और पैसा देने पर खराब माल भी पास हो जाता है।

 

सर्वेयर ने हमारा चना यह कहकर केंसिल कर दिया कि इसमें दाल है। चने में चने की दाल नहीं होगी तो क्या होगा। घर से फसल साफ करके लाए थे। अब कह रहा है कि दोबारा छानों, पैसे दे दो तो खरीदेंगे नहीं तो चले जाओ।
- सुरेश रघुवंशी, घटावदा


कल सुबह 10 बजे से आए हैं, लेकिन ट्राली अभी तक नहीं तुली है। सुबह से कोई भी कर्मचारी ट्राली तोलने को तैयार नहीं है। किसान परेशान हो रहे हैं। सर्वेयर सुबह से गायब है और समिति प्रबंधक भी चले गए। जवाब देने वाला कोई नहीं है।


कल रात को यहां पर आ गए थे। लेकिन सर्वेयर नहीं आ पाया।हमारे बाद जो ट्राली आईं उनको बाहर-बाहर गाड़ी रोकी और कह दिया कि इसकी सही हैतौल दो। दलालों का बोलबाला हैपैसे लेकर ट्राली तुल रही हैं। हम पहले से खड़े हैतो हमारे पास पहले आना चाहिए था।
- भगवती प्रसाद, जयपाल यादव, मुल्लाखेड़ी।

brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned