चार हिस्सों में बनेगी फोरलेन सीसी सड़क, राशि की कमी बन सकती है निर्माण में समस्या

धूल की समस्या देख वायपास पर सीसी रोड निर्माण शुरू. 12 किमी दूर स्थित प्लांट से आया मसाला, सड़क की दूसरी व तीसरी लेयर का निर्माण कार्य हुआ शुरू।

By: Arvind jain

Published: 03 Mar 2019, 11:47 AM IST

अशोकनगर. आवाजाही में धूल की समस्या को देखते हुए विभाग ने वायपास पर फोरलेन सीसी रोड का निर्माण शुरू करा दिया है। फोरलेन सड़क का निर्माण चार हिस्सों में कराया जाएगा और रोजाना 300 से 400 मीटर सीसी करने की योजना है, लेकिन राशि की कमी निर्माण में समस्या बन सकती है और यदि शासन से जल्दी राशि नहीं मिली तो निर्माण रुक भी सकता है।


वर्षों से जर्जर वायपास रोड को फोरलेन सड़क निर्माण के लिए करीब पांच महीने पहले उखाड़ दिया गया था, इसके बाद सड़क पर बेसमेंट का काम हो चुका था। लेकिन वाहनों से सड़क पर धूल के गुबार वाहन चालकों के साथ रहवासियों व दुकानदारों की परेशानी बने हुए थे। वहीं हल्की बारिश में ही सड़क कीचड़ में तब्दील हो जाती थी।

पीडब्ल्यूडी ईई दिलीप बिगोनिया का कहना है कि तीन लेयर में सड़क बनना है, इसके लिए पहली लेयर तो डाली जा चुकी थी और अब दूसरी व अंतिम लेयर डाली जा रही है। पहली पट्टी 3.75 मीटर चौड़ाई की बन रही है, इतनी ही चौड़ाई की दूसरी पट्टी बनने से फोरलेन का एक हिस्सा तैयार हो जाएगा। इसके बाद दूसरे हिस्से का निर्माण होगा। खास बात यह है कि पहले तो नीचे 25 माईक्रोन की पॉलीथिन बिछाई जा रही है और उसके ऊपर सीसी किया जा रहा है। ताकि सीसी नमी मिट्टी न सोख सके।

रोज 300 से 400 मीटर का लक्ष्य-
पीडब्ल्यूडी ईई के मुताबिक निर्माण कंपनी को 300 से 400 मीटर सीसी रोड प्रतिदिन बनाने का लक्ष्य दिया गया है। इसके लिए इस सड़क के पिपरई रोड वाले हिस्से का निर्माण रुकवा दिया गया है, ताकि वायपास का निर्माण जल्दी हो सके और समस्या खत्म हो सके। हालांकि इसमें पोल व लाइन शिफ्टिंग तो देरी का कारण बन ही रहे हैं, वहीं फंड की कमी भी बड़ी समस्या बनी हुई है। निर्माण कंपनी को दो महीने से राशि नहीं मिली है और करीब पांच करोड रुपए का भुगतान बकाया है। इससे फंड की कमी की वजह से निर्माण रुकने की भी आशंका है।

Arvind jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned