Masks.....यहां नई पगडिय़ों के कपड़े से पत्नी बना रही मास्क, जरूरतमंद को बांट रहा पति

बाजार में मास्क महंगे तो आगे आए लोग

अशोकनगर. संक्रमण से बचाव के लिए हर व्यक्ति को मास्क की जरूरत है, लेकिन बाजार में महंगे बिक रहे है, इससे लोग मदद के लिए आगे आए हैं और वह खुद ही मास्क बनवाकर वितरित कर रहे हैं। एक परिवार में तो पत्नी नई पगडिय़ों को काटकर मास्क बना रही है और पति वितरित कर रहा है।

शहर के मुक्तिधाम के पास रहने वाली 30 वर्षीय जसविंदर कौर ने लोगों का मास्क उपलब्ध कराने का निर्णय लिया। बाजार बंद रहने से कपड़ा नही मिला इससे वह घर पर रखीं नई पगडिय़ों को काटकर वह घर पर ही मास्क तैयार कर रही हैं और पति वीरेंदरसिंह शहर में लोगों को यह मास्क निशुल्क वितरित कर रहा है। ताकि जरूरत के समय लोगों को मास्क मिल सकें। करीब 150 मास्क वह वितरित कर चुके हैं। उनका कहना है कि कपड़े के यह मास्क रोजाना धोकर इस्तेमाल किए जा सकते हैं। वहीं लोगों की समस्या को देख श्रीराम परिवार भी कपड़े के मास्क बनवा रहा है। जिसमें बबलू यादव धतुरिया और रोशन अग्रवाल ने 5 हजार मास्क बनवाने का निर्णय लिया है। बबलू यादव ने बताया कि अब तक 200 मास्क बनवाकर वह वितरित भी कर चुके हैं।

इधर, खेतों में खड़ी फसल की टूटीं बालियां

अशोकनगर. कई दिन से आसमान में छाए बादल किसानों की परेशानी बन गए। देर शाम 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से जिलेभर में आंधी चली और कई जगहों पर 15 मिनिट बारिश भी हुई। आंधी ने खेतों में सूखी खड़ी गेहूं की फसल और सरसों को नुकसान पहुंचाया और गेहूं की बालियां व सरसों की फ लियां टूटकर खेतों में ही गिर गईं।

सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए थे और शाम को सात बजे तेज आंधी शुरू हो गईए साथ ही गरज-चमक के साथ बारिश शुरू हो गई। कई जगहों पर 15 मिनट बारिश हुई। आंधी से खेतों में कटी रखी फसलें उड़ गईं और गेहूं की बालियां टूट गईं। वहीं सरसों की फसल में भी नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है कि आंधी ने लाखों रुपए का नुकसान पहुंचाया है। जो बालियां और फलियां टूटकर गिर गईं, वह बेकार हो जाएंगी। वहीं कई किसान अंधेरे में ही आंधी के बीच अपनी कटी रखी फसलों को बचाने का प्रयास में जुटे रहे।

Manoj vishwakarma Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned