किसान को पता ही नहीं चला, खाते से गायब हो गए पौने चार लाख

खाता धारकों ने अपने खाते की जांच कराई और राशि में गड़बड़ी पाए जाने पर उन्होंने विधायक के साथ पहुंचकर एसडीएम से शिकायत की थी।

By: Subodh Tripathi

Published: 11 Oct 2021, 02:13 PM IST

अशोकनगर. जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में गड़बडिय़ों का मामला नया नहीं है। स्थिति यह है कि किसान को पता ही नहीं और उसके नाम से सहकारी बैंक में खाता खुल गया और उसमें गेहूं की 3.81 लाख रुपए की राशि का भुगतान हो गया। साथ ही किसान की जानकारी के बिना खाते से 3.80 लाख रुपए गायब भी हो गए।


मामला जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा चंदेरी का है। सिंहपुर ताल निवासी अकलबाई पत्नी श्रीराम यादव का कहना है कि उसके पास चार बीघा जमीन है व उसका पुत्र रामसेवक यादव ने 30 बीघा जमीन ठेका पर ली थी व जमीन के मालिक की सहमति पर गेहूं का पंजीयन कराया था। 13 अप्रैल को मैसेज आया तो उन्होंने रामनगर सोसायटी के खरीदी केंद्र पर 193 क्विंटल गेहूं बेचा। लेकिन भुगतान नहीं आया तो समिति प्रबंधक योगेश शर्मा ने कहा कि पंजाब नेशनल बैंक का जीरो खाता है, जिसे बड़ा कराना पड़ेगा। बाद में जब रामसेवक यादव ने कंप्यूटर दुकान से अपना रजिस्ट्रेशन निकलवाया तो उसमें जिला सहकारी बैंक का खाता दर्ज मिला, जबकि वह खाता उन्होंने कभी खुलवाया ही नहीं। जब खाते का स्टेटमेंट मांगा तो शाखा मैनेजर ने मना कर दिया। इससे रामसेवक यादव ने बैंक की मुख्य शाखा गुना से अपने खाते का स्टेटमेंट निकलवाया, तो पता चला कि खाते में तीन लाख 81 हजार 175 रुपए आए थे। जिसमें से 2.80 लाख रुपए सिंहपुर ताल निवासी रामकुमार यादव के खाते में ट्रांसफर बताए गए और एक लाख रुपए नगद निकले बताए गए। अकलबाई का कहना है कि रामकुमार यादव उस समिति प्रबंधक के यहां मजदूरी करता है। अकलबाई ने जनसुनवाई में यह शिकायत कलेक्टर से भी की है और अपने गेहूं की राशि 3.81 लाख रुपए दिलाने की मांग की है।
वहीं दूसरा मामला भी जिला सहकारी बैंक की शाखा चंदेरी का ही है। चुरारी गांव निवासी रतिभान यादव ने कुछ दिन पहले एसपी से शिकायत कर कहा था कि जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में उसके खाते में दो लाख नौं हजार 350 रुपए जमा थे, लेकिन वह राशि उसके खाते से किसी ने निकाल ली है। रतिभान यादव ने एसपी से मांग की थी कि उसके खाते से निकली राशि वापस दिलाई जाए और राशि निकालने वालों पर कार्रवाई करें।

गिट्टी से भरे ट्रक ने मारी टक्कर, एक की मौत, दो घायल


कुछ दिन पहले जिला सहकारी बैंक चंदेरी के केशियर ने ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली थी और घोटाले के आरोप का उसके पास से सुसाइड नोट मिला था। इससे खाता धारकों ने अपने खाते की जांच कराई और राशि में गड़बड़ी पाए जाने पर उन्होंने विधायक के साथ पहुंचकर एसडीएम से शिकायत की थी। इससे एसडीएम ने बैंक शाखा को सील कर दिया था, वहीं गुना स्थित मुख्य शाखा ने बैंक के पूरे स्टाफ को निलंबित कर दिया और सोमवार को दूसरा स्टाफ पहुंचकर बैंक खोलेगा। साथ ही मुख्य बैंक की चार सदस्यीय टीम भी आज जांच करने पहुंचेगी।

Subodh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned