पुलिस ने मंडी गेट से किसानों को जबरन हटाया, विरोध में धरने पर बैठे किसान नेता

पुलिस ने मंडी गेट से किसानों को जबरन हटाया, विरोध में धरने पर बैठे किसान नेता

अशोकनगर. मंडी गेट पर ताला लगा होने से फसलें लेकर पहुंचे किसानों के ट्रैक्टर-ट्रालियों से सड़क पर जाम की स्थिति बनने से पुलिस और किसान संघ के बीच जमकर बहस हुई। नाराज होकर किसान संघ के पदाधिकारी सड़क पर बैठ गए, जहां से पुलिस उन्हें जबरन हटाने लगी तो तहसीलदार ने रोका। बाद में प्रशासन ने उन्हें हटाकर बाइक से कलेक्ट्रेट पहुंचाया। किसान संघ का आरोप है कि पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज की और जिलामंत्री से झूमाझटकी की। साथ ही एसपी के नाम दिए ज्ञापन में किसान संघ ने थाना प्रभारी पर कार्रवाई की मांग की है और अल्टीमेटम दिया है कि यदि कार्रवाई नहीं की तो किसान संघ आंदोलन करेगा।

ashoknagar,  <a href=ashoknagar patrika, patrika news , patrika bhopal , bhopal mp , latest hindi news , police , strike , protest , kisaan mla, kisaan, crops , tehsildaar, " src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/07/31/ask_3183750-m.png">

मामला सोमवार को सुबह करीब 11 बजे का है। जहां पहले ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से मंडी बंद रही तो अब व्यापारियों की अनिश्चितकालीन हड़ताल चल रही है। सोमवार को 50-60 किसान फसलें लेकर पहुंचे तो मंडी गेट पर ताला लगा देख सड़क किनारे लाइन से ट्रैक्टर-ट्राली लगाकर ताला खुलने का इंतजार करने लगे। किसानों के ट्रैक्टर-ट्रालियों से बायपास पर जाम की स्थिति बन गई, इससे पुलिस मौके पर पहुंची तो किसानों को वहां से हटाकर लौटाने लगी। किसान संघ के प्रांत सहमंत्री जगरामसिंह यादव मौके पर पहुंचे तो पुलिस ने उनके साथ भी बहस की।

जहां थाना प्रभारी महेश शर्मा ने किसानों से कहा कोई हाथ लगाने नहीं आता है, इसलिए यहां से निकल जाओ। साथ ही यह भी कहा कि यह लोग तो चले जाएंगे बाद में तुम फंसोगे। इससे प्रांत सहमंत्री ने पुलिस से कहा कि अब भले ही गोली मार दो, लेकिन यहां से हटेंगे नहीं। यह कहते हुए वह किसान संघ के अन्य पदाधिकारियों के साथ सड़क पर बैठ गए। पुलिस उन्हें जबरन उठाने लगी तो मौके पर पहुंचे तहसीलदार सूर्यकांत त्रिपाठी ने रोका। बाद में तहसीलदार के समझाने पर किसान सड़क से हटे।

ashoknagar,  <a href=ashoknagar patrika , patrika news, patrika bhopal, bhopal mp, latest hindi news, police, strike, protest, kisaan mla, kisaan, crops, tehsildaar, " src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/07/31/ask_3183750-m.png">

किसान बोले-फसलें बिक नहीं रही अब क्या करें
किसानों का कहना है कि जहां चना-मसूर का भुगतान अब तक नहीं मिला है और सूखा राहत राशि का भी कोई पता नहीं है। ऐसे में घरों पर पैसों की जरूरत के चलते वह बीज के लिए रखे चना-मसूर, गेहूं को बेचने आए थे। उनका अनाज नहीं बिक सका और पुलिस ने उनसे बदसलूकी की। किसानों का कहना है कि क्या जरूरत के समय अब तक वह मंडी में अनाज बेचने भी न आएं। साथ ही उनका कहना है कि क्या पुलिस किसानों को इस तरह प्रताडि़त करेगी।

तहसीलदार ने कलेक्टर से चर्चा की बात कही तब हटे
सड़क पर बैठे किसान संघ के पदाधिकारियों से तहसीलदार ने कलेक्टर से चर्चा कर मामला निपटाने की बात कही, तब किसान संघ के पदाधिकारी वहां से हटे और किसानों को लेकर कलेक्ट्रेट जाने लगे। भीड़ की आशंका को देख प्रशासन ने जबरन उन्हें बाइक पर बिठाकर कलेक्ट्रेट पहुंचाया। लेकिन किसानों से चर्चा करने के लिए जब कलेक्ट्रेट में अधिकारी नहीं मिले तो किसान संघ थाना प्रभारी की शिकायत करने एसपी ऑफिस पहुंचा, लेकिन एसपी नहीं मिले तो एएसपी से शिकायत की और थाना प्रभारी पर कार्रवाई की मांग की। साथ ही एसपी के नाम ज्ञापन देकर अल्टीमेटम भी दिया है कि यदि थाना प्रभारी के खिलाफ मंगलवार सुबह 11 बजे तक कार्रवाई नहीं की तो किसान संघ आंदोलन करेगा।

किसान संघ का आरोप पुलिस ने किसानों पर किया लाठीचार्ज
किसान संघ के प्रांत सहमंत्री जगरामसिंह का कहना है कि किसान जरूरत के समय पैसों की जरूरत के लिए फसलें बेचने आए थे, ताला लगा देख वह लाइन से ट्रैक्टर-ट्रालियों को लगाकर ताला खुलने के इंतजार में बैठे थे और पुलिस ने वहां पहुंचकर किसानों पर लाठीचार्ज किया। प्रांत सहमंत्री का यह भी कहना है कि किसानों ने जानकारी दी तो समझाने के लिए जिलामंत्री रामकिशन रघुवंशी पहुंचे, जहां पर पुलिस ने जिलामंत्री से भी झूमाझटकी की और वह खुद पहुंचे तो उनके साथ भी अभद्र व्यवहार किया। उनका कहना है कि पुलिस ने किसानों को गालियां भी दीं और धमकाकर अंग्रेजो के शासन की तरह काम किया।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned