scriptMunishree Nemisagarji Maharaj celebrated 24th initiation day | तीर्थ संस्कृति के जीवंत प्रतीक हैं इनकी सुरक्षा करें: मुनि अक्षयसागर | Patrika News

तीर्थ संस्कृति के जीवंत प्रतीक हैं इनकी सुरक्षा करें: मुनि अक्षयसागर


-मुनिश्री नेमिसागरजी महाराज का मनाया 24वां दीक्षा दिवस

अशोकनगर

Published: April 22, 2022 09:51:18 pm



अशोकनगर. तीर्थ हमारी संस्कृति के जीवंत प्रतीक है, तीर्थ से ही संस्कृति समृद्धि को प्राप्त होती है। हजारों वर्षों से भारतीय संस्कृति और सभ्यता को तीर्थ ही आगे बढ़ा रहे हैं। आप लोगों का सौभाग्य है कि इनकी सेवा सुरक्षा करने के साथ ही इन्हें विकसित करने का मौका मिला है। उक्त उदगार मुनिश्री अक्षयसागरजी महाराज ने थूवोनजी में धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहे।
मुनिश्री ने कहा कि हम अपने को सौभाग्य शाली मानते हैं कि अतिशय क्षेत्र थूवोनजी में आचार्यश्री जैसे महान संत के प्रथम दर्शन हुए और मन्दिर नम्बर छ: में हमने आजीवन ब्रह्मचर्य व्रत का संकल्प लिया। मुनिश्री शैल सागरजी महाराज ने कहा कि पिछली बार भी हम पांच साधुओं का संघ थूवोनजी आया था। तब मुनिश्री प्रसाद सागरजी महाराज ससंघ थे। तीर्थ क्षेत्र पर विवाह आदि को संस्कारों से जोड़ जाना चाहिए। हमारी हर क्रिया दया और विचारों में अहिंसा होना चाहिए तब ही हम दया धर्म का पालन कर सकेंगे।
मुनिश्री नेमिसागरजी महाराज का मनाया २४वां दीक्षा दिवस
थूवोन कमेटी के प्रचार मंत्री विजय धुर्रा ने बताया कि संत शिरोमणि आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज के कर कमलों से २३ वर्ष पूर्व 22 अप्रैल 1999 को मुनिश्री अजित सागरजी महाराज, पूज्य सागरजी महाराज, मुनि नेमीसागरजी सहित २३ मुनिराजों ने नेमावर तीर्थ में जैनेश्वरी दीक्षा ग्रहण की थी। इस दौरान मुनिश्री नेमिसागरजी महाराज का २४वां दीक्षा दिवस मनाया गया। कमेटी के महामंत्री विपिन सिंघई ने बताया कि मुनिश्री अक्षय सागरजी महाराज ससंघ के मुनिश्री नेमिसागरजी महाराज तीर्थ क्षेत्र पर आज हमें दीक्षा दिवस मनाने का सौभाग्य मिल रहा है।
जगत कल्याण की कामना से की शांतिधारा
शुक्रवार प्रात: मुनिसंघ के सानिध्य में थूवोनजी के खड़े बाबा आदिनाथ भगवान का महामस्तिष्काभिषेक किया गया तथा जगत कल्याण की कामना के लिए मुनिश्री अक्षय सागरजी महाराज के श्री मुख से विशेष मंत्रों के साथ जगत कल्याण की कामना के लिए महा शान्ति धारा की गई। जिसका सौभाग्य अरविंद कुमार, अंकित कुमार, अनिल कुमार जैन, अंशुल जैन, जीवन कुमार सौरव कुमार चंदेरी, गुलाब चंद, गगन कुमार टरका, श्रेयांश जैन, शैलेन्द्र दददा, प्रदीप जैन रानी सहित अन्य भक्तों को मिला।
तीर्थ संस्कृति के जीवंत प्रतीक हैं इनकी सुरक्षा करें: मुनि अक्षयसागर
तीर्थ संस्कृति के जीवंत प्रतीक हैं इनकी सुरक्षा करें: मुनि अक्षयसागर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.