टिकिट वापस करने पहुंचे यात्री का टिकिट फाड़ा, तो हुआ जमकर हंगामा

- स्टेशन पर हंगामा: फिर छोटी स्टेशनों पर ही रुकी रहीं पांच ट्रेनें, यात्री आधी रात से स्टेशन पर करते रहे इंतजार।
- मनमाने तरीके से की गई ट्रेनों की देरी से नाराज यात्रियों ने जमकर की रेलवे के खिलाफ नारेबाजी, ट्रेनें नहीं आई तो बीना पहुंचने ऑटो का लिया सहारा।

By: Arvind jain

Updated: 03 Dec 2019, 12:33 PM IST

अशोकनगर. जहां दिन की सभी 18 यात्री ट्रेनें तो रेलवे ने लाइन दोहरीकरण कार्य के लिए लगातार 17 दिन से बंद कर रखी हैं, वहीं रात की ट्रेनें भी समय पर नहीं आ रही।

आधी रात से स्टेशन पर इंतजार में बैठे यात्रियों को जब सुबह 9 बजे भी कोई टे्रन आती नहीं दिखी तो वह टिकिट वापस करने पहुंचे, लेकिन बुकिंग क्लर्क ने तीन घंटे से ज्यादा समय होने की बात कहकर इंकार कर दिया और यात्री का टिकिट फाड़ दिया। इससे गुस्साए यात्रियों ने सैंकड़ों यात्रियों ने स्टेशन पर जमकर हंगामा किया।


रात डेढ़ बजे से सुबह आठ बजे सोमवार को पांच यात्री ट्रेनें आना थीं, लेकिन यह ट्रेनें अशोकनगर से आसपास की स्टेशनों पर घंटों रुकी रहीं और सुबह 9 बजे तक कोई ट्रेन नहीं आई। यात्री ट्रेनों के इंतजार में रातभर से रुके हुए थे और सुबह 9 बजे वह नाराजगी जताते हुए टिकिट वापस करने पहुंचे।

जहां यात्रियों और रेलवे कर्मचारियों में जमकर बहस हुई और कर्मचारियों ने आरपीएफ को बुला लिया। हालांकि बाद में उनके टिकिट वापस लिए लेकिन प्रत्येक टिकिट पर 30 रुपए कटने से यात्रियों ने नाराजगी जताई और लंबे समय तक रेलवे की मनमानी के खिलाफ नारेबाजी की।

यात्री बोले मालगाडिय़ां तो निकल रहीं लेकिन यात्री ट्रेनें रुकीं-
जब यात्रियों ने रेलवे के अधिकारियों से शिकायत की तो उन्होंने लाइन पर काम चलने की वजह से आसपास की स्टेशनों पर ट्रेनों का खड़ा होना बताया। इस पर यात्रियों ने नाराजगी जताई कि काम के बहाने सिर्फ यात्री ट्रेनों को रोका जा रहा है और मालगाडिय़ां लगातार निकाली जा रही हैं। बाद में यात्रियों को बीना तक ऑटो किराए से ले जाना पड़े।

अशोकनगर स्टेशन पर ट्रेनों पर एक नजर-
- बीना-नागदा पैसेंजर साढ़े आठ घंटे लेट आई। सुबह 5:41 बजे की वजाय दोपहर 2:14 बजे अशोकनगर आई। मुंगावली से तो निर्धारित समय पर चली, बाद में हर स्टेशन पर लंबे समय तक रुकी और लगातार छह घंटे ओर स्टेशन पर रुकी रही। बाद में एक घंटे अशोकनगर स्टेशन पर रुकी रही।

- जोधपुर-भोपाल एक्सप्रेस 7 घंटे 20 मिनिट लेट आई। सुबह 3:57 बजे की वजाय दिन में 11:17 बजे पहुंची। गुना से तो ट्रेन निर्धारित समय पर चली, लेकिन मावन स्टेशन पर घंटों रुकी रही। इसके अशोकनगर के बीच की अन्य स्टेशनों पर भी रुकी रही।

- पुरी-बीकानेर एक्सप्रेस पांच घंटे लेट आई। सुबह 8:05 बजे की वजाय ट्रेन दोपहर 1:04 बजे आई। वहीं दुर्ग-जयपुर सुबह 6:13 बजे की वजाय 10:09 बजे आई और सांतरागाछी एक्सप्रेस सुबह 6:45 बजे की वजाय दोपहर 11:48 बजे आई, यह ट्रैने भी छोटी स्टेशनों पर घंटों रुकी रहीं।

- अजमेर-जबलपुर एक्सप्रेस रात 1:25 की वजाय साढ़े 9 घंटे लेट सुबह 10:44 बजे आई, वहीं जबलपुर-अजमेर एक्सप्रेस भी सुबह 3:11 की वजाय 5:42 बजे आई जो गुना सवा सात बजे पहुंची।

स्पीक आउट- यात्रियों ने यह बताई समस्या-
जोधपुर-भोपाल एक्सप्रेस के इंतजार में रात तीन बजे से स्टेशन पर बैठे हैं। ट्रेन नहीं आई तो टिकिट वापस करने गए, जहां कर्मचारी ने टिकिट फाड़ दिया।
- कमल कुशवाह, यात्री अशोकनगर

दयोदय एक्सप्रेस से कटनी जाने रात डेढ़ बजे से बैठे हैं, 12-13 लोग हैं। सभी रिजर्वेशन हैं। भोपाल में शिकायत करने पर मेंटनेंस चलना बताया जा रहा है। ट्रेन सुबह 10 बजे तक नहीं आई।
- कमलेश जैन, यात्री कटनी

Arvind jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned