पिता ने साहूकार से और चाचा ने बैंक से ले रखा था कर्ज

Praveen tamrakar

Publish: Jun, 14 2018 10:58:11 AM (IST)

Ashoknagar, Madhya Pradesh, India
पिता ने साहूकार से और चाचा ने बैंक से ले रखा था कर्ज

पिता ने साहूकार से और चाचा ने उसकी जमीन पर बैंक से कर्जा लिया था, जिसे चुका न पाने पर किसान ने ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली।

अशोकनगर/मुंगावली. पिता ने साहूकार से और चाचा ने उसकी जमीन पर बैंक से कर्जा लिया था, जिसे चुका न पाने पर किसान ने ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। किसान की आत्महत्या पर कांग्रेस ने सरकार की गलत नीतियों का कारण बताया है और कहा कि कर्ज के बोझ से दबे किसान परेशान होकर प्रदेश में आत्महत्या कर रहे हैं।

बुधवार दोपहर रेलवे ट्रेक पर शव पड़ा मिला। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की तो वहां मिले आधार कार्ड और मोबाइल से मृतक की पहचान क्षेत्र के पिपरिया मल्हारगढ़ निवासी 40 वर्षीय चंद्रभानसिंह पुत्र फूलसिंह लोधी के रूप में हुई। किसान चंद्रभान की जेब में सुसाइड नोट भी मिला, इसमें जान देने का कारण कर्ज को बताया।

पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेज दिया है। किसान की मौत पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष कन्हईराम लोधी ने आरोप लगाया कि सरकार की गलत नीतियों से किसान आत्महत्या कर रहे हैं। वहीं मुंगावली विधायक बृजेंद्रसिंह यादव का कहना है कि शर्म की बात है मुख्यमंत्री खुद को किसान का बेटा कहते हैं और खुद को किसान हितैषी बताते हैं, लेकिन उनके राज में किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

विधायक ने कहा कि किसान तीन महीने पहले फसलें बेच चुके हैं, लेकिन भुगतान न होने से बैंक और साहूकारों के सामने किसानों की क्रेडिट खराब हो गई है। कर्जा चुकाने का दबाव पड़ता है तो किसान आत्महत्या के लिए मजबूर हो जाता है।

सुसाइड नोट में मांग, परिवार से न वसूला जाए कर्ज
किसान चंद्रभानसिंह के पास 15 बीघा जमीन है और लाखों रुपए कर्ज था। उसने सुसाइड नोट में शासन से कर्जा माफ कराने की मांग की है और कहा है कि उसके परिवार से कर्ज न वसूला जाए। वहीं रिश्तेदारों से मृतक किसान ने उसके दोनों बच्चों को पढ़ाने की मांग की है। साथ ही यह भी लिखा है कि साहूकार धमका रहा था, इसलिए उसने जान दी। वहीं यह भी लिखा कि मरने के बाद यदि आंखें ठीक बच जाएं तो उन्हें निकालकर दान कर दिया जाए।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned