ट्रेन में 30 हजार रुपए चोरी, हर स्टेशन पर थाने पहुंचा यात्री, किसी ने नहीं लिखी रिपोर्ट!

ट्रेन में 30 हजार रुपए चोरी, हर स्टेशन पर थाने पहुंचा यात्री, किसी ने नहीं लिखी रिपोर्ट!

Satish More | Publish: Sep, 09 2018 11:14:41 PM (IST) Ashoknagar, Madhya Pradesh, India

जीआरपी कंट्रोल इंदौर ने गुना और बीना में दी सूचना, एक-दूसरे पर टालती रही पुलिस

अशोकनगर. रेल मंत्रालय जहां ट्वीट के माध्यम से भी ट्रेन में बैठे यात्री की मदद का दावा करता हंै, लेकिन एक यात्री के ट्रेन में नगद 30 हजार रुपए चोरी हो गए, जिसकी रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए रास्ते में पडऩे वाली स्टेशनों पर ट्रेन रुकते ही हर जीआरपी थाने पहुंचा, लेकिन किसी ने भी उसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की। जबकि जीआरपी कंट्रोल इंदौर ने भी तुरंत ही जीआरपी गुना व बीना को शिकायत की सूचना दी, इसके बावजूद भी जीआरपी पुलिस एक दूसरे पर टालती रही।

राजस्थान के बालोतरा निवासी पुखराज राठी पत्नी के साथ पेंड्रा रोड स्टेशन जाने के लिए जोधपुर से भगत की कोठी-विशाखापट्टनम एक्सप्रेस में बैठे। एस-6 बोगी में बर्थ क्रमांक एक व दो पर दोनों पति-पत्नी बैठे हुए थे। कोटा और गुना के बीच उनकी जेब कट गई, जेब में नगद 30 हजार रुपए थे। उन्होंने ट्वीट कर रेल मंत्रालय को घटना की शिकायत की। वहीं कोच में मौजूद टीसी को भी घटना के बारे में बताया, इस पर टीसी ने उन्हें गुना में जीआरपी से मदद मिलने की बात कही, लेकिन गुना में उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी गई। इससे घटना के बाद 700 किमी तक रास्ते में ट्रेन के हर स्टॉपेज पर उन्होंने जीआरपी थाने पहुंच शिकायत की, लेकिन किसी ने भी उनकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की। वहीं पेंड्रारोड स्टेशन पर उतरने के बाद जब वह जीआरपी थाने पहुंचे तो वहां से उन्हें कोटा या गुना में प्रकरण दर्ज कराने की बात कहकर लौटा दिया।

जीआरपी कंट्रोल ने भी दी थी सूचना
ट्वीट पर आरपीएफ भोपाल कंट्रोल रूम ने तुरंत ही घटना की जानकारी जीआरपी कंट्रोल रूम इंदौर को दी। इस पर जीआरपी कंट्रोल रूम ने भी तुरंत ही गुना और बीना जीआरपी थाने में घटना की सूचना दी, लेकिन गुना जीआरपी ने कोई ध्यान नहीं दिया और गुना ने अशोकनगर जीआरपी को सूचना दे दी। इससे घटना के बाद 700 किमी तक यात्री ट्रेन में यात्रा करता रहा और जीआरपी थानों में पहुंचकर रिपोर्ट के लिए गुहार लगाता रहा।

रिपोर्ट दर्ज कराने ऐसे ही भटकते हैं यात्री
इस घटना ने ट्रेन में सुरक्षा और जिम्मेदार पुलिस की सजगता की हकीकत उजागर कर दी। ट्रेनों में वारदात का शिकार होने के बाद पीडि़त यात्री इसी तरह से परेशान होते रहते हैं, लेकिन जिम्मेदार घटना स्थल उनके क्षेत्र का न होने की बात कहकर एक-दूसरे पर मामले को टालते रहते हैं।
गुना जीआरपी थाने ने हमें सूचना दी थी, लेकिन अशोकनगर स्टेशन पर भगत की कोठी-विशाखापटï्टनम ट्रेन का स्टॉपेज नहीं है इसलिए हम उस यात्री से संपर्क नहीं कर सके। ट्रेन गुना से सीधी मालखेड़ी व सागर रुकती है।
जसवंतसिंह परमार, जीआरपी थाना प्रभारी अशोकनगर

मैंने टीसी को जानकारी दी और ट्वीट भी किया। टीसी ने गुना में जीआरपी से मदद मिलने की बात कही, लेकिन गुना व पेंड्रा रोड स्टेशन पर कहीं भी उन्हें मदद नहीं मिली। पेंड्रा रोड स्टेशन पर भी जीआरपी ने रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया।
पुखराज राठी, यात्री

Ad Block is Banned