अफगानिस्तान ने 170 तालिबानी कैदियों को किया रिहा, गृह युद्ध को खत्म करने की पहल

अफगानिस्तान ने 170 तालिबानी कैदियों को किया रिहा, गृह युद्ध को खत्म करने की पहल

Mohit Saxena | Publish: Jun, 11 2019 04:40:02 PM (IST) | Updated: Jun, 11 2019 06:53:58 PM (IST) एशिया

  • 130 अन्य तालिबानी कैदियों को छोड़े जाने की उम्मीद
  • दो दशकों से तालिबान और सरकार के बीच कई बार शांति वार्ता हुई
  • संघर्ष को समाप्त करने के लिए उठाया कदम, विपक्ष कर रहा आलोचना

काबुल। अफगानिस्तान के पुल-ए-चरखी क्षेत्र से 170 तालिबानी कैदियों को रिहा कर दिया गया है और 130 अन्य कैदियों को जल्द मुक्त करने की उम्मीद है। यह कदम तब उठाया गया है, जब लगभग दो दशकों से चल रहे गृह युद्ध को समाप्त करने के लिए शांति वार्ता चल रही है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रिहा किए गए कैदियों को तालिबान के साथ सदस्यता और सहयोग के आरोप में कैद किया गया था।

आसिफ अली जरदारी जवाबदेही अदालत में पेश, 10 दिन की रिमांड पर भेजे गए पूर्व राष्ट्रपति

 

taliban

तालिबान कैदियों की रिहाई की घोषणा राष्ट्रपति अशरफ गनी ने बीते सप्ताह शांति परिषद की बैठक के समापन अवसर पर की। अफगान ग्रैंड समिति में तीन मई को गनी ने तालिबान के साथ शांति वार्ता की थी। गनी ने रमजान के पवित्र सप्ताह से पहले 175 तालिबान कैदियों को मुक्त करने के वादे का आह्वान किया था। ईद अल-फितर के अवसर पर, अफगान राष्ट्रपति ने राजनयिक माध्यम से संघर्ष को समाप्त करने के लिए 887 कैदियों को रिहा करने की घोषणा की।

नेपाल: भारतीय तीर्थयात्रियों की बस को ट्रक ने मारी टक्कर, 2 लोगों की मौत, 21 घायल

taliban

इस बीच आलोचकों ने कहा है कि इस फैसले का देश पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।यह निर्णय व्यापक विचार-विमर्श के बिना किया गया है। यह कदम ऐसे समय में आया है, जब राजनयिक प्रयासों ने अफगान शांति प्रक्रिया में केंद्र स्तर पर कदम रखा है। काबुल सरकार के साथ सीधी वार्ता में शामिल होने के लिए तालिबान लगातार इनकार करता रहा है। यह पहली बार था जब तालिबान ने सीधी वार्ता की है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned