बांग्लादेश चुनाव: वोटिंग के दौरान दो गुटों में झड़प, एक की मौत, 10 घायल

ऐसे ही किसी आशंका के कारण ही पहले से ही देशभर में करीब 60 हजार सैनिकों, अर्धसैनिक बलों और पुलिसकर्मियों को तैनाती की गई थी।

By: Shweta Singh

Published: 30 Dec 2018, 11:41 AM IST

ढाका। बांग्लादेश में रविवार को कड़ी सुरक्षा के बीच आम चुनाव के लिए मतदान जारी है। हालांकि इसी बीच दो गुटों के बीच झड़प की जानकारी मिल रही है। बता दें कि ऐसे ही किसी आशंका के कारण ही पहले से ही देशभर में करीब 60 हजार सैनिकों, अर्धसैनिक बलों और पुलिसकर्मियों को तैनाती की गई थी।

10 लोगों के घायल होने की भी जानकारी

जानकारी के मुताबिक अवामी लीग और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) कार्यकर्ताओं में झड़प हुई। मीडिया रिपोर्ट्स में इस दौरान एक के मारे जाने का भी दावा किया जा रहा है, इसके साथ ही 10 लोगों के घायल होने की भी जानकारी मिल रही है। आपको बता दें कि चुनाव प्रचार के दौरान भी विपक्षी दलों के हिंसा के कई मामले सामने आए थे। इसके चलते विपक्षी दलों के नेता और कार्यकर्ता गिरफ्तार भी किए गए।

सुबह आठ बजे से शुरू हुआ मतदान

प्रधानमंत्री शेख हसीना लगातार अपने तीसरे कार्यकाल के इरादे से चुनावी मैदान में हैं। सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर है। इस बार देश में करीब 10 करोड़ से अधिक योग्य मतदाता हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में 40,000 से अधिक मतदान केंद्रों में रविवार सुबह आठ बजे (बांग्लादेश समय) से मतदान जारी है जिसमें लगभग 10.4 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। आम चुनाव में पहली बार छह निर्वाचन क्षेत्रों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) का उपयोग किया जा रहा है। मतदान शाम चार बजे तक होगा। सुरक्षा की दृष्टि से मतदाताओं को केंद्र में प्रवेश करने से पहले अपने फोन स्विच ऑफ करने होंगे।

ईवीएम वाले मतदान केंद्र के परिणाम तुरंत जारी करने की उम्मीद

दावा किया जा रहा है कि जिन निर्वाचन क्षेत्रों में ईवीएम का प्रयोग किया जा रहा है उनके परिणाम मतदान के कुछ घंटों बाद जारी किए जाने की संभावना है। अन्य निर्वाचन क्षेत्रों के परिणाम रविवार रात से लेकर सोमवार सुबह तक आने की संभावना है। चुनाव आयोग में पंजीकृत 33 राजनीतिक दल चुनाव लड़ रहे हैं। शेख हसीना के नेतृत्व वाली अवामी लीग तीसरे कार्यकाल के लिए सत्ता हासिल करने के इरादे से चुनावी मैदान में उतरी है। 2008 से 18 से 28 वर्ष की उम्र के कम से कम 2.15 करोड़ युवाओं ने मतदाता सूची में नाम दर्ज कराया है, यह संख्याबल परिणामों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

Show More
Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned