LoC की ओर बढ़ रहे प्रतिबंधित संगठन JKLF के मार्च को PoK में रोका गया

LoC की ओर बढ़ रहे प्रतिबंधित संगठन JKLF के मार्च को PoK में रोका गया

Anil Kumar | Publish: Oct, 06 2019 10:23:41 PM (IST) | Updated: Oct, 06 2019 11:01:28 PM (IST) एशिया

  • जम्मू एवं कश्मीरी लिबरेशन फ्रंट (JKLF) का भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया है
  • JKLF के सदस्य कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध कर रहे हैं

मुजफ्फराबाद। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद से पाकिस्तान के अंदर मची खलबलाहट अभी तक शांत नहीं हुआ है। लिहाजा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के आदेशों का भी उल्लंघन कर लोग सीमा के करीब विरोध-प्रदर्शन करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

हालांकि अब सीमा की ओर बढ़ते प्रदर्शनकारियों को बीच में ही रोक दिया गया है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में जम्मू एवं कश्मीरी लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के सदस्यों को रविवार को भारत से लगती नियंत्रण रेखा (LoC) तक जाने से रोक दिया गया।

बालाकोट में आतंकी फिर सक्रिय, LOC पर पर्याप्त सुरक्षाबल तैनात- सेना प्रमुख

प्रदर्शनकारियों को पीओके के जिसकूल नामक स्थान पर रोका गया है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, इस जगह पर सुरक्षाबलों ने मिट्टी के ढेर, बिजली के पोल, कंटीली बाड़ जैसी चीजों के अलावा कंटेनर जैसे बड़े अवरोधकों को रखकर रास्ता रोक दिया है। यह जगह मुजफ्फराबाद-श्रीनगर मार्ग पर स्थित है जिसे अधिकारियों ने पहले ही सामान्य यातायात के लिए रोक दिया था।

जेकेएलएफ के केंद्रीय प्रवक्ता मोहम्मद रफीक डार ने कहा कि उनका यह 'आजादी मार्च' शांतिपूर्ण कार्यक्रम है जिसका मकसद दुनिया का ध्यान कश्मीर मसले की तरफ दिलाना है।

उन्होंने कहा कि वे लोग स्थानीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों से टकराव नहीं चाहते और न ही किसी तरह की हिंसा चाहते हैं क्योंकि अगर ऐसा हुआ तो इससे भारत के हित सधेंगें।

रफीक डार ने अधिकारियों से अवरोधकों को हटाकर उनके मार्च को नियंत्रण रेखा से तीन किलोमीटर पहले स्थित चकोठी तक जाने देने का आग्रह किया है।

jklf.jpg

LoC की ओर मार्च कर रहे हैं प्रदर्शनकारी

बता दें कि पीओके के अलग-अलग स्थानों से जेकेएलएफ के सैकड़ों समर्थक व सदस्य बीते तीन दिनों से एलओसी की तरफ मार्च कर रहे हैं। शनिवार को वे गढ़ी दुपट्टा नामक जगह पर पहुंचे और रविवार को सुबह लगभग दस बजे उन्होंने वाहनों से और बाद में पैदल चखोटी की तरफ प्रस्थान किया। दोपहर सवा तीन बजे वे चिनारी नामक जगह पर पहुंचे। यह जगह एलओसी से ग्यारह किलोमीटर पहले पड़ती है।

LoC पर पाक ने अपने सात लॉन्च पैड फिर किए एक्टिव, 275 जिहादियों को कश्मीर में घुसाने की तैयारी

जिसकूल नाम की जिस जगह पर इन प्रदर्शनकारियों को रोका गया है, वह चिनारी से दो किलोमीटर आगे है। प्रदर्शनकारी यहीं पर कंटेनरों के सामने बैठे हुए हैं। सोशल मीडिया पर डाले गए पोस्ट से पता चल रहा है कि स्थानीय लोगों ने मार्च में शामिल लोगों का जगह-जगह स्वागत किया।

कंटेनरों के दूसरी तरफ, जिधर से एलओसी तक का आगे का रास्ता जाता है, पुलिस अधिकारी व सुरक्षाकर्मी मौजूद हैं। अधिकारियों का कहना है कि प्रदर्शनकारियों को वार्ता के लिए बुलाया गया है और उन्हें लौटने के लिए समझाया जाएगा।

pakistankashmir.jpeg

इमरान खान भी एलओसी की ओर जाने से कर चुके हैं मना

अधिकारियों ने कहा कि इन्हें किसी भी कीमत पर आगे नहीं बढ़ने दिया जाएगा क्योंकि 'आगे फायरिंग प्रभावित क्षेत्र है और भारत की तरफ से इन पर व नागरिकों पर फायरिंग की जा सकती है। वह आखिरी बिंदु जहां तक इन्हें आने की इजाजत है, वह जिसकूल है। यहां से इन्हें आगे जाने देने का सवाल ही नहीं उठता।'

जेकेएलएफ सदस्यों का कहना है कि 'एलओसी जबरन खींची गई खूनी रेखा है जिसने कश्मीर को दो हिस्सों में बांट दिया है। वे इस रेखा को रौंदकर दोनों कश्मीर को जोड़ेंगे।'

प्रतिबंधित संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का बड़ा ऐलान, 4 अक्टूबर को LoC पार करने की दी धमकी

हालांकि, पाकिस्तानी शासक समझ रहे हैं कि इस गैरकानूनी हरकत पर भारत की कैसी सख्त प्रतिक्रिया हो सकती है। इसी वजह से प्रधानमंत्री इमरान खान भी कह रहे हैं कि एलओसी पार करना सही नहीं होगा।

हालांकि इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासभा में भाषण देने के लिए जाने से पहले इमरान खान ने पीओके में एक भाषण देते हुए कहा था कि हम अभी एलओसी की ओर नहीं जाएंगे। मैं यूएन में भाषण देकर लौटूंगा उसके बाद बताऊंगा कि कब हमें एलओसी की ओर जाना है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned