चंद्रयान-2 मिशन पर चीन से आई बधाई, लोगों ने कहा- हिम्मत न हारें, जारी रखें खोज

चंद्रयान-2 मिशन पर चीन से आई बधाई, लोगों ने कहा- हिम्मत न हारें, जारी रखें खोज

Shweta Singh | Updated: 10 Sep 2019, 11:04:06 AM (IST) एशिया

  • दुनियाभर से मिल रहीं बधाईयों के बीच चीन से भी आई शुभकामनाएं
  • लोगों ने सोशल मीडिया पर बढ़ाया ISRO का हौंसला

पेइचिंग। चंद्रयान मिशन में आई थोड़ी सी बाधा या यूं कहें आंशिक असफलता के बाद भी पूरी दुनिया ISRO की मेहनत और लगन की प्रशंसा कर रही है। इसी क्रम में इस बेहद चुनौतीपूर्ण मिशन के लिए चीन के लोगों ने भी ISRO के वैज्ञानिकों की प्रशंसा की है। लोगों ने अलग-अलग माध्यम से अपना संदेश भेजकर, विक्रम लैंडर से संपर्क टूटने पर भारत का हौंसला बढ़ाया है। लोगों ने मैसेज दिया कि बिना हिम्मत हारे अंतरिक्ष में अपनी खोज को लगातार जारी रखें।

'भारत का साहसिक अभियान'

लोगों के अलावा चीन की आधिकारिक मीडिया ने भी इस मिशन पर रिपोर्ट करते हुए लिखा 'भारत का साहसिक अभियान, चंद्रमा से मात्र 2.1 किमी की दूरी पर विक्रम का टूटा संपर्क।' बताते चलें कि 7 सितंबर को चांद की सतह से महज 2.1 किलोमीटर दूर लैंडर विक्रम से संपर्क टूट गया गया था। हालांकि अभी भी यहा मिशन 95 प्रतिशत से अधिक सफल है।

अंतरिक्ष की खोज में सब एक साथ: चीन

सोशल मीडिया चीन के लोगों ने मिशन की जबरदस्त तारीफ की। चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो पर लोगों ने लिखा, 'अंतरिक्ष की खोज में सभी एक साथ शामिल हैं। अगर कोई देश अगर इस क्षेत्र में सफलता हासिल करता है तो उसकी तारीफ होनी चाहिए। इसमें अस्थाई असफलता मिलने पर भी प्रशंसा के पात्र हैं।'

चीनी वैज्ञानिक ने बताया संपर्क खोने का कारण

एक अन्य यूजर ने लिखा, 'हम सब गड्ढे में हैं लेकिन हममें से कुछ लोग सितारों की ओर देख रहे हैं। कोई भी देश अगर अंतरिक्ष की खोज को आगे बढ़ाता है तो वह हमारे सम्मान का अधिकारी है।' चीनी मीडिया की एक रिपोर्ट में एक वैज्ञानिक ने भी इस मसले पर टिप्पणी की है। वैज्ञानिक ने लिखा कि चंद्रयान के ऐटिट्यूड कंट्रोल थ्रस्टर (ACT) का नियंत्रण न हो पाना भी संपर्क टूटने की वजह हो सकती है।

लैंडर विक्रम का चल चुका है पता

गौरतलब है कि सोमवार को ISRO की ओर से बताया गया कि लैंडर विक्रम का पता चल गया है। वह चांद पर मौजूद है और क्रैश नहीं हुआ है। ISRO अधिकारी ने संभावना जताई कि शायद विक्रम की हार्ड लैंडिंग होने की वजह से संपर्क टूट गया था। फिलहाल, दोबारा संपर्क साधने की कोशिशें की जारी हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned