सीमा पर जारी तनाव के बीच गणतंत्र दिवस पर चीन ने भारत को दी बधाई, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भेजा संदेश

HIGHLIGHTS

  • India Republic Day 2021: चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भारत के 72वें गणतंत्र दिवस पर संदेश भेजकर बधाई दी।
  • चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने भी 72वें गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के इस मौके पर अपने समकक्ष पीएम नरेंद्र मोदी को संदेश भेजकर बधाई दी।

By: Anil Kumar

Updated: 26 Jan 2021, 11:25 PM IST

बीजिंग। भारत ने मंगलवार (26 जनवरी) को हर्ष के साथ अपना 72वां गणतंत्र दिवस ( Republic Day 2021 ) मनाया। राष्ट्रीय पर्व के इस विशेष मौके पर दुनियाभर के कई देशों ने भारत को शुभकामनाएं दी और तमाम बड़े नेताओं ने भी बधाई देते हुए अपने रिश्तों को और अधिक मजबूत करने की प्रतिबद्धता जताई।

इस बीच बीते कई महीनों से वास्तविक नियंत्रण रेखा ( LAC ) पर जारी तनाव के बीच पड़ोसी देश चीन ने गणतंत्र दिवस के इस पावन मौके पर भारत को बधाई दी है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ( President Xi Jinping ) ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भारत के 72वें गणतंत्र दिवस पर संदेश भेजकर बधाई दी।

गणतंत्र दिवस पर IPS ऑफिसर ने की परेड की अगुवाई, फिर दी गई सांस्कृतिक प्रस्तुतियां, देखें वीडियो

राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने बधाई संदेश में कहा कि चीन और भारत एक दूसरे के महत्वपूर्ण पड़ोसी हैं। कोरोना महामारी और एक सदी में अभूतपूर्व परिवर्तन आने की परिस्थिति में चीन-भारत संबंधों के स्वस्थ और स्थिर विकास को बनाए रखना न केवल दोनों देशों और दोनों देशों की जनता के मूल हितों से मेल खाता है, बल्कि क्षेत्रीय और वैश्विक स्थिरता व विकास के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। मैं राष्ट्रपति कोविंद के साथ मिलकर चीन-भारत संबंधों को सही रास्ते पर आगे बढ़ाने की समान कोशिश करना चाहता हूं।

चीनी प्रधानमंत्री ने भी दी बधाई

राष्ट्रपति शी जिनपिंग के अलावा चीनी प्रधानमंत्री ली खछ्यांग ने भी 72वें गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के इस मौके पर अपने समकक्ष पीएम नरेंद्र मोदी को संदेश भेजकर बधाई दी। अपने बधाई संदेश में ली खछ्यांग ने कहा कि चीन-भारत संबंधों को अच्छी तरह से बनाए रखना और विकसित करना दोनों देशों और दोनों देशों की जनता के मूल हितों में है।

किसान आंदोलन पर पाकिस्तान ने जहर उगला, कहा- भारत के खिलाफ दुनिया को उठानी चाहिए आवाज

उन्होंने आगे कहा लिखा- मुझे आशा है कि दोनों पक्ष द्विपक्षीय संबंधों के दीर्घकालिक विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए मतभेदों को ठीक से निपटेंगे और सहयोग को बढ़ावा देंगे। ताकि चीन-भारत संबंधों के स्वस्थ और स्थिर विकास को बखूबी अंजाम दिया जा सके।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned