भारत के खिलाफ साजिश कर रहा चीन! पाकिस्तान को दिए 50 हथियारबंद ड्रोन

HIGHLIGHTS

  • चीन ने पाकिस्तान ( China Pakistan Relation ) को इसी महीने 50 हथियारबंद ड्रोन ( Armed Drones ) दिया है। ये ड्रोन विंग लूंग 2 के नाम से जाने जाते हैं।
  • चीनी मीडिया के मुताबिक, भारत बड़ी संख्या में सशस्त्र ड्रोनों के हमले को विफल करने में असमर्थ है।

By: Anil Kumar

Updated: 26 Dec 2020, 06:57 PM IST

नई दिल्ली। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत-चीन के बीच कई महीनों से जारी तनातनी के बीच अब बीजिंग नई दिल्ली को घेरने के लिए नई साजिश रच रहा है। पाकिस्तान के जरिए भारत को अस्थिर करने के लिए चीन लगातार कोशिश कर रहा है और अब इसी कड़ी में चीन ने पाकिस्तान को इसी महीने 50 हथियारबंद ड्रोन ( Armed Drones ) दिया है।

ये ड्रोन विंग लूंग 2 के नाम से जाने जाते हैं। चीन-पाकिस्तान ( China Pakistan Relation ) के बीच इस नए समझौते से भारत के सामने एक नई चुनौती आ सकती है। क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि भारतीय सेना में नए युग के स्टैंड-ऑफ हथियारों का जवाब देने की क्षमता नहीं है। हालांकि भारतीय सेना अपने हवाई क्षेत्र में घुसने वाले ड्रोन को मार गिराने में सक्षम है।

Jammu-Kashmir : जासूसी के आरोप में कठुआ अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर BSF ने मार गिराया पाक Drone

चीनी मीडिया के मुताबिक, भारत बड़ी संख्या में सशस्त्र ड्रोनों के हमले को विफल करने में असमर्थ है। भारतीय सेना के अधिकारियों ने अफ्रीका और एशिया में चीनी ड्रोन की सफलता को ध्यान में रखते हुए कहा है कि हथियारबंद ड्रोन निर्बाध हवाई क्षेत्रों में काम करता है या जहां संबंधित देश का हवाई प्रभुत्व हाे।

भारतीय सेना ने उदाहरण के तौर पर बताया कि अफगानिस्तान और ईराक में अमरीका के हथियारबंद ड्रोन आतंकवादियों के खिलाफ स्ट्राइक करते हैं, क्योंकि वहां के हवाई क्षेत्र में अमरीका का प्रभुत्व है। ऐसा भारत की स्थिति में चीन और पाकिस्तान के मामले में संभव नहीं है।

भारत के पास हथियारबंद ड्रोन सिस्टम नहीं

आपको बता दें कि भारत के पास मौजूदा समय में भारत के पास कोई हथियारबंद ड्रोन सिस्टम नहीं है। हालांकि अमरीका से भारत लीज पर दो ड्रोन अधिग्रहण कर रही है। इस ड्रोन के जरिए भारत समुद्री सीमा पर अपने दोस्त और दुश्मन को आसानी से पहचान सकता है।

सेना की एंटी एयरक्राफ्ट गन ने उड़ाए पाकिस्तानी ड्रोन के परखच्चे, ग्रामीणों ने बीएसएफ को सौंपे ड्रोन के टुकड़े

भारत अपनी सीमा को सुरक्षित करने के लिए रूस से S-400 मिसाइल सिस्टम को खरीद रहा है, जो कि अगले साल तक भारत आ जाएगा। इसके अलावा डिफेंस पब्लिक सेक्टर कंपनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स ने एंटी ड्रोन रडार सिस्टम तैयार किया है। हालांकि अभी इसका इस्तेमाल करके नहीं देखा गया है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned