China में 30 फीसदी सेक्स टॉय का निर्यात बढ़ा, अमरीका और यूरोपीय देशों से बढ़ रही है मांग

Highlights

  • चीन के सेक्स टॉय उद्योग को इन दिनों कई देशों से बड़ी संख्या में ऑर्डर मिल रहे हैं।
  • चीन की कंपनी हर माह लगभग 1,500 सेक्स डॉल्स का उत्पादन करती है।

By: Mohit Saxena

Updated: 24 Jul 2020, 03:58 PM IST

बीजिंग। कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण कई देशों में जहां आर्थिक स्थिति बदहाल हो चुकी है, वहीं चीन (China) के एक सेक्टर में काफी उछाल देखने को मिला रहा है। महामारी के दौरान चीन में बने सेक्स टॉय की मांग दुनियाभर में 30 फीसदी बढ़ चुकी है। चीन की अर्थव्यवस्था को पूर्णरूप से देखा जाए तो कोरोना वायरस के कारण वह भी बुरी तरह से प्रभावित है। कोरोना काल में न केवल चीन के निर्यात में कमी आई है बल्कि उद्योग भी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं।

बड़ी संख्या में ऑर्डर मिल रहे

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, चीन के सेक्स टॉय उद्योग को इन दिनों कई देशों से बड़ी संख्या में ऑर्डर मिल रहे हैं। चीन के शैंडोंग स्थित सेक्स टॉय बनाने वाली कंपनी लिबो टेक्नोलॉजी के सेल्स मैनेजर वायलेट डू का कहना है कि फरवरी में जब लॉकडाउन के बाद दोबारा लौटे तो बढ़ती मांग के कारण कारीगरों की संख्या बढ़ानी पड़ी।

अमरीका और यूरोप से मिल रहे अधिक ऑर्डर

डू के अनुसार फ्रांस, अमरीका और इटली से उन्हें सबसे अधिक ग्राहक मिले हैं। उनकी कोशिश है कि अपने ग्राहकों तक जल्द से जल्द ऑर्डर पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि हालांकि इस दौरान चीन में हमारी बिक्री प्रभावित हुई है लेकिन उसका कारण ट्रांसपोर्ट का रुकना नहीं है। जल्द ही उन्हें घरेलू बाजार से भी बड़ी संख्या में ऑर्डर मिल रहे हैं।

24 घंटे काम कर रही प्रोडक्शन लाइनें

उन्होंने कहा कि उनकी प्रोडक्शन लाइनें 24 घंटे तक काम कर रही हैं। वहीं, उनके कर्मचारी दो शिफ्टों में डिमांड को पूरा करने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि मांग में अचानक आई वृद्धि का कारण लॉकडाउन है। लोग अपने घरों में कैद हैं। उन्होंने कहा कि अमरीका और कुछ अन्य यूरोपीय देशों में इसकी मांग और बढ़ने की उम्मीद है।

हर माह लगभग 1,500 डॉल्स का उत्पादन

वहीं डॉन्गुआन स्थित एबेई सेक्स डॉल कंपनी ने भी अपने यहां कर्मचारियों की संख्या को बढ़ाया है। कंपनी के जनरल मैनेजर लोउ के अनुसार उनके पास भी बहुत ऑर्डर बचे पड़े हैं। लोउ का दावा है कि उनकी सेल्स इस दौरान 50 फीसदी ज्यादा हो गई है। एबेई हर माह लगभग 1,500 सेक्स डॉल्स का उत्पादन करती है, इसकी कीमत 2 हजार युआन से लेकर 3,600 युआन तक होती है।

ऑर्डर से कम बन रही डॉल्स

लोउ का कहना है कि उन्हें चीन के बजाय बाहरी देश से ज्यादा ऑर्डर मिल रहा है। ये ऑर्डर सबसे अधिक अमरीका और यूरोपीय देशों से मिल रहे हैं। चीन की संस्कृति अधिक रूढ़िवादी का शिकार है। ऐसे में उन्हें बाहरी देशों ज्यादा रिस्पांस मिल रहा है। उन्होंने कहा कि हर माह 2 हजार से ज्यादा डॉल्स बनाने के बाद भी अमरीकी और यूरोपीय देशों से मिल रहे ऑर्डर को पूरा करने मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned