कोविड के कारण एवरेस्ट से लौट रहे विदेशी पवर्तारोहियों को हो रही परेशानी, नेपाल से जाना हुआ मुश्किल

नेपाल मेें कोरोना वायरस की दूसरी लहर देखने को मिल रही है। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाया है।

By: Mohit Saxena

Published: 03 Jun 2021, 02:20 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण अंतराराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा हुआ है। विदेशी सैलानियों के आनेजाने पर पूरी तरह से रोक लगी हुई है। ऐसे में माउंट एवरेस्ट और अन्य हिमालयी चोटियों से लौटने वाले पर्वतारोही को काफी दिक्कत सामना करना पड़ रहा है। नेपाल मेें कोविड-19 की दूसरी लहर देखने को मिल रही है। कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए अंतराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

Read More: NASA शुक्र पर 30 साल बाद भेजेगा अपने दो अंतरिक्ष यान, इन रहस्यों से उठेगा पर्दा

408 पर्वतारोहियों को मिला था परमिट

चीन और भारत के बीच बसे नेपाल में कोरोना वायरस की घातक लहर फैली हुई है। ऐसे में अधिकांश नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद पड़ी हैं। नेपाल ने 742 परमिट जारी किए- उनमें से 408 पर्वतारोहियों को अप्रैल-मई में चढ़ाई के लिए मंजूरी दी गई थी। इनमें से कई पर्वतारोही अब मानसून का मौसम आने से पहले नीचे उतरना चाहते हैं। वे बारिश शुरू होने से पहले पहाड़ों से लौट रहे हैं।

काठमांडू स्थित निजी फर्म सेवन समिट ट्रेक्स के एक वरिष्ठ अधिकारी ताशी लकपा शेरपा के अनुसार पर्वतारोहियों को घर जाना मुश्किल हो रहा है क्योंकि भारत, कतर और तुर्की के लिए केवल पांच साप्ताहिक उड़ानें ही चालू हैं।

Read More: अमरीका के राष्ट्रपति जो बाइडेन का ऐलान, कोरोना वैक्सीन लगवाने पर मिलेगी फ्री बीयर

पर्वतारोही जल्द काठमांडू लौटेंगे

शेरपा के अनुसार स्थिति और खराब हो सकती है क्योंकि अधिक पर्वतारोही अपने अभियान को समाप्त कर देंगे और अगले कुछ दिनों में काठमांडू लौट आएंगे। संयुक्त राज्य अमरीका के एंड्रयू ह्यूजेस ने बताया कि उन्हें नियमित उड़ानों की कमी के कारण बुधवार रात कतर के लिए एक चार्टर्ड फ्लाइट में एक महंगा सफर तय करना पड़ा है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned