Coronavirus: अंतर्राष्ट्रीय जांच की मांग के आगे झुका चीन, कहा- इन्वेस्टिगेशन के लिए हम तैयार

HIGHLIGHTS

  • चीनी विदेश मंत्री वांग यी ( China's foreign minister Wang Yi ) ने अमरीका की ओर से लगाए गए आरोपों पर निराशा जाहिर की और जमकर निशाना साधा
  • वांग यी ने एक बयान में कहा कि चीन कोरोना वायरस के पैदा होने संबंधी अंतरराष्ट्रीय जांच के लिए खुला है, लेकिन यह जांच राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त होनी चाहिए

By: Anil Kumar

Published: 24 May 2020, 06:30 PM IST

बीजिंग। कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के खतरे से आज पूरा विश्व जूझ रहा है। इस वायरस ने अब तक 3.42 लाख से अधिक लोगों की जान ली है, जबकि 50 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं। इस वायरस से सबसे अधिक अमरीका ( America ) प्रभावित हुआ है। अमरीका में अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।

इन सबके बीच कोरोना वायरस के स्त्रोत यानी की यह कहां से पैदा हुआ इसकी अंतर्राष्ट्रीय जांच की मांग को लेकर आवाजें उठने लगी है। हालांकि यह शुरू से ही कहा जा रहा है कि इसके लिए चीन जिम्मेदार है। यह वायरस चीन के शहर वुहान से निकला है। कोरोना को लेकर वैश्विक स्तर पर आलोचनाओं का सामना कर रहा चीन अब इस महामारी की उत्पत्ति की जांच के लिए तैयार हो गया है।

COVID-19 वैक्सीन के निर्माता के तौर पर भारत को निभानी होगी मुख्य भूमिका: फ्रांस

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने एक बयान में कहा कि चीन कोरोना वायरस के पैदा होने संबंधी अंतरराष्ट्रीय जांच के लिए खुला है, लेकिन यह जांच राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त होनी चाहिए। बता दें कि इससे पहले अमरीका कई बार चीन पर कोरोना को लेकर गंभीर आरोप लगा चुका है।

अमरीका पर भड़का चीन

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने अमरीका की ओर से लगाए गए आरोपों पर निराशा जाहिर की और जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर चीन को दुनियाभर में कलंकित करने और बदनाम करने की कोशिश की। चीन के खिलाफ अफवाह फैलाने की अमरीकी कोशिशें विफल हो गई हैं।

बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की बैठक के इतर भी अमरीका और ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति संबंधी अंतर्राष्ट्रीय जांच की मांग की थी।

राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त हो जांच: वांग

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने वार्षिक संसद सत्र के मौके पर कहा कि चीन का दरवाजा कोरोना वायरस के स्रोत की जांच करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक समुदाय के साथ काम करने के लिए खुला है। हम मानते हैं कि यह जांच पेशेवर, निष्पक्ष और रचनात्मक होना चाहिए।

Coronavirus Vaccine को बिना ट्रायल के China करेगा लोगों पर इस्तेमाल, बाजार में जल्द दवा लाने की होड़

उन्होंने कहा कि निष्पक्षता का अर्थ है कि जांच प्रक्रिया राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त हो। जांच के दौरान सभी देशों की संप्रभुता का सम्मान करें और किसी तरह के अनुमान के आधार पर किसी को अपराधी ठहराए जाने का विरोध करना चाहिए। मालूम हो कि अमरीका शुरुआत से ही यह आरोप लगाता रहा है कि कोरोना वायरस चीन के वुहान से निकला है और यह एक अति सुरक्षा वाले लैब से लीक हुआ है। अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी कई बार सवाल खड़े कर चुके हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले चीन ने जांच कराने को लेकर इनकार कर दिया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन की बैठक में चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति संबंधी जांच से इनकार किया था। उन्होंने कहा था कि यह जांच कोरोना वायरस महामारी खत्म होने के बाद कराई जा सकती है।

कोरोना वायरस
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned