चीन में खुली तीन ई-कोर्ट, यहां पर रोबोट सुना रहे हैं फैसला

  • पहले ही महीने में 12074 मामले आए, जिनमें से 10391 का निपटारा भी हो गया था

By: Mohit Saxena

Updated: 08 Dec 2019, 02:50 PM IST

बीजिंग। चीन ने न्यायिक अदालतों का बोझ कम करने के लिए ई-कोर्ट लगानी शुरू कर दी है। इसकी पूरी दुनिया कायल है। खासकर भारत के लिए मिसाल कायम की है। चीन के हेंगझाऊ शहर में अगस्त 2017 में पहले इंटरनेट कोर्ट की स्थापना की गई थी। जहां पहले ही महीने में 12074 मामले आए, जिनमें से 10391 का निपटारा भी हो गया था।

इन कोर्ट में पेशी भी वीडियो चैट से होती है। सुनवाई और जिरह खत्म होने के बाद फैसला भी ऑनलाइन मिल जाता है। इस कोर्ट में ऑनलाइन कारोबार के विवाद, कॉपीराइट के मामले, ई-कॉमर्स प्रोडक्ट के दावों के मामले सुने जा सकेंगे।

इस कोर्ट में सबसे ज्यादा मामले मोबाइल भुगतान के हैं। इससे जुड़े फ्रॉड और ई-कॉमर्स के मामले सामने आ रहे हैं। जैसे ही शिकायतकर्ता ऑनलाइन अपनी शिकायत को रजिस्टर कर भुगतान खत्म करता है उसके बाद केस की सुनवाई शुरू हो जाती है।

चीन के सोशल मीडिया मैसेजिंग प्लेटफॉर्म वी-चैट पर मोबाइल कोर्ट का विकल्प दिया है। इसके जरिए चीन ने अपने नागरिकों को अदालत में शारीरिक रूप से पेश हुए बिना मामले की सुनवाई और इंसाफ की सुविधा प्रदान कर रहा है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned