WHO की बैठक में शामिल होना चाहता है ताइवान, भारत का चाहता है साथ

Highlights

  • ये बैठक 18 मई को जिनेवा में होने वाली है।
  • बैठक में शामिल होकर ताइवान अपनी अलग पहचान बनाना चाहता है।

By: Mohit Saxena

Updated: 10 May 2020, 05:36 PM IST

वाशिंगटन। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की एक अहम बैठक में हिस्सा लेने से पहले ताइवान ने लाखों मास्क की एक खेप भारत को दान में दी है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में चीन भी शामिल होगा। उसकी चालबाजियों से बचने के लिए उसने भारत की मदद ली है। विशेषज्ञों का कहना है कि ये दान ताइवान ने अपने फायदे के लिए किया है। दरअसल चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है। ऐसे में इस बैठक में ताइवान अपनी अलग पहचान बनाने की कोशिश में लगा हुआ है। की बैठक 18 मई को जिनेवा में होने वाली है।

कोरोना संकट से निपटने के लिए भारत और अमरीका एक साथ तीन दवाओं पर कर रहे हैं काम

गौरतलब है कि चीन नहीं चाहता है कि ताइवान उसके सामने सिर उठाए। ऐसे में बैठक में शामिल होकर ताइवान अपनी अलग पहचान बनाना चाहता है। राजनीति रूप से देखें तो ताइवान को चीन अपने कब्जे में लेना चाहता है। वहीं ताइवान यहां उपस्थित होकर अपने लिए आगे की राह तलाश रहा है। बीते कई सालों से ताइवान पर चीन अपना कब्जा जमाना चाहता है।

ताइवान में अब तक 500 संक्रमित मामले सामने आए हैं। यहां पर कोरोना वायरस से अब तक छह मौतें हुईं हैं। ऐसे में इस देश को संक्रमण से मुक्त देश माना जा रहा है। चीन के दूतावास के प्रवक्ता का कहना है कि ताइवान चीन का हिस्सा है। उसे कोई हक नहीं है कि यूएन द्वारा प्रायोजित की बैठक में शामिल हो।

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned