रिपोर्ट में दावा: पाकिस्तान को भी कोरोना टीका देगा भारत, 92 देशों ने वैक्सीन खरीदने की जताई इच्छा

HIGHLIGHTS

  • India Covishield Vaccine: भारत ने पड़ोसी देश का धर्म निभाते हुए 6 पड़ोसी देशों को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध करा रहा है, इसमें बांग्लादेश, नेपाल, भूटान और मालदीव को अब तक कोरोना वैक्सीन के लाखों डोज भेज चुका है।
  • मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, यदि पाकिस्तान भारत से वैक्सीन के लिए आग्रह करता है तो भारत बिना झिझक के पाकिस्तान को वैक्सीन दे सकता है।

By: Anil Kumar

Updated: 22 Jan 2021, 09:51 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना महामारी ( Corona Epidemic ) से पूरी दुनिया जूझ रही है और अब कई देशों में कोरोना टीकाकरण अभियान ( Corona Vaccination ) की शुरुआत होने से इससे बचाव की उम्मीदें काफी बढ़ गई है। भारत ने अपने देश के नागरिकों के साथ पड़ोसी देश का धर्म निभाते हुए 6 पड़ोसी देशों को वैक्सीन उपलब्ध करा रहा है, इसमें बांग्लादेश, नेपाल, भूटान और मालदीव को अब तक कोरोना वैक्सीन के लाखों डोज भेज चुका है।

इधर, कोरोना संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के लोग बेसब्री के साथ वैक्सीन का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन इमरान खान की सरकार लाचार नजर आ रही है और अपने दोस्त चीन की ओर मुंह बाए खड़ा है। ऐसे में अब ये सवाल है कि क्या भारत बाकी अन्य पड़ोसी देशों की तरह पाकिस्तान को वैक्सीन ( Pakistan Corona Vaccine ) मुहैया कराएगा?

Corona Vaccination: दूसरे चरण में टीका लगवाएंगे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी के तहत भारत अपने पड़ोसी और करीबी देशों को कोरोना वैक्सीन भेज रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से ये दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मानवता के आधार पर पड़ोसी देशों को अनुदान के तौर पर वैक्सीन उपलब्ध करा रहे हैं।

लिहाजा, यदि पाकिस्तान भारत से वैक्सीन के लिए आग्रह करता है तो भारत बिना झिझक के पाकिस्तान को वैक्सीन देगा। बता दें कि पाकिस्तान ने अब तक दो वैक्सीन ( चीन की वैक्सीन 'सिनोफार्म' और आक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के 'कोविशील्ड' ) को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है।

पाकिस्तान को इस तरह मिल सकता है वैक्सीन

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो पाकिस्तान के पास ऐसे दो विकल्प हैं, जिसके सहारे उसे भारत से वैक्सीन मिल सकता है। पहला विकल्प ये है कि एक पड़ोसी के नाते भारत से वैक्सीन मांग सकता है और भारत बाकी अन्य पड़ोसियों की तरह पाकिस्तान को वैक्सीन उपलब्ध करा सकता है।

दूसरा विकल्प ये है कि पाकिस्तान विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के जरिए भारत से वैक्सीन ले सकता है। चूंकि कोवैक्स नाम का एक संगठन है, जिसके माध्यम से 190 देशों की 20 फीसदी जनसंख्या को मुफ्त में वैक्सीन दी जाती है। पाकिस्तान भी इस संगठन का सदस्य है और इस नाते उन्हें भी भारतीय वैक्सीन मिल सकता है।

92 देशों में भारतीय वैक्सीन की डिमांड

आपको बता दें कि भारत ने दो वैक्सीन 'कोविशील्ड' और 'कोवैक्सीन' को मंजूरी दी है। 16 जनवरी को भारत ने कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। भारत के स्वदेशी वैक्सीन की सफलता को देखते हुए दुनिया पर जबरदस्त डिमांड है।

Covishield और Covaxin लगवाने के नियमों में अंतर, जानिए सिर्फ कोवैक्सीन के साथ ही क्यों भरना पड़ता है कंसेंट फॉर्म

अब तक करीब 92 देशों ने भारत सरकार से वैक्सीन खरीदने के लिए इच्छा ज़ाहिर की है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दुनियाभर के 90 से अधिक देशों ने भारतीय कोरोना वैक्सीन को खरीदने की इच्छा जाहिर की है।

भारत ने 'कोविशील्ड' वैक्सीन की 20 लाख खुराक बांग्लादेश और 10 लाख खुराक नेपाल को भेजी है। वहीं, भूटान को अब तक डेढ़ लाख डोज़ दिए गए हैं। इसके अलावा मालदीव को वैक्सीन की एक लाख डोज दी गई है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned