Indonesia ने चीन की कोरोना वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की दी मंजूरी, राष्ट्रपति लगवाएंगे पहला टीका

HIGHLIGHTS

  • इंडोनेशिया ( Indonesia ) के खाद्य और औषधि प्राधिकरण ने चीन की कोरोना वैक्सीन 'CoronaVac' को आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी है।
  • संभावना है कि स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य नौकरशाहों को 'कोरोनावैक' के टीके की खुराक देने का अभियान इसी सप्ताह शुरू हो सकता है।

By: Anil Kumar

Updated: 11 Jan 2021, 11:03 PM IST

जकार्ता। कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) के आने से कोविड महामारी से जूझ रही पूरी दुनिया में लोगों को उम्मीदें काफी बढ़ गई है। कई देशों में टीकाकरण अभियान की शुरुआत भी हो गई है। कई देशों में वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिलने के बाद टीकाकरण ( Corona Vaccination ) की भी शुरुआत की जा चुकी है।

इसी कड़ी में अब इंडोनेशिया ने भी कोरोना वैक्सीन ( Indonesia Approves Chinese Corona Vaccine ) के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। सोमवार को इंडोनेशिया के खाद्य और औषधि प्राधिकरण ने चीन की कोरोना वैक्सीन 'कोरोनावैक' को आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी है।

दुनिया को China के कोरोना वैक्सीन पर भरोसा नहीं, पाकिस्तान में भी सहमे लोग

मंजूरी मिलने के बाद इंडोनेशिया में इस सप्ताह से अत्यंत जोखिम वाले आबादी समूह के टीकाकरण का मार्ग प्रशस्त हो गया है। संभावना है कि स्वास्थ्यकर्मियों और अन्य नौकरशाहों को 'कोरोनावैक' के टीके की खुराक देने का अभियान इसी सप्ताह शुरू हो सकता है। 'कोरोनावैक' चीनी कंपनी साइनोवैक बायोटेक लिमिटेड द्वारा बना गया है।

राष्ट्रपति जोको विडोडो लगवाएंगे पहला टीका

आपको बता दें कि इंडोनेशियाई अधिकारियों ने ब्राजील, तुर्की और इंडोनेशिया के 'क्लिनिकल ट्रायल' के आंकड़ों की समीक्षा के बाद वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी है। इंडोनेशिया की खाद्य और औषधि निगरानी एजेंसी के प्रमुख पेन्नी लुकितो ने जानकारी देते हुए बताया 'आंकड़ों के आधार पर और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के निर्देशों के मुताबिक चीन की वैक्सीन कोरोनावैक ने इस्तेमाल के लिए अनुमति की शर्तों को पूरा किया है।'

चीन का कोरोना वैक्सीनेशन प्लान, 12 फरवरी 2021 से पहले 5 करोड़ लोगों को लगाया जाएगा टीका

जानकारी के मुताबिक, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो सबसे पहले कोरोना का टीका लगवाएंगे। उन्होंने कहा है कि सबसे पहले वह वैक्सीन की खुराक लेंगे। विडोडो ने सोशल मीडिया पर कहा, 'सबसे पहले राष्ट्रपति ही क्यों? मैं अपने आपको प्राथमिकता में नहीं रख रहा बल्कि मैं हर किसी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि वैक्सीन हलाल और सुरक्षित है।'

मालूम हो कि इंडोनेशिया में वैक्सीन को लेकर विवाद शुरू हो गया है और इस्लामिक धर्गुरुओं ने सवाल उठाए हैं कि यह हलाल नहीं है और इसमें 'सुअर' के अंश का इस्तेमाल किया गया है। हालांकि, इंडोनिशया के शीर्ष इस्लामिक निकाय इंडोनेशियन उलेमा काउंसिल ने पिछले सप्ताह कहा था कि कोरोना टीका हलाल है और मुस्लिमों के इस्तेमाल के अनुकूल है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned