इंडोनेशिया: भारी बारिश के बाद बाढ़ और भूस्‍खलन से तबाही, अब तक 44 लोगों की मौत, हजारों बेघर

Indonesia Flood: इंडोनेशिया के पूर्वी हिस्से में भारी बारिश के बाद भूस्खलन और बाढ़ की वजह से कम से कम 44 लोगों की मौत हो गई है, जबकि हजारों लोग बेघर हो गए हैं। वहीं कई लोग लापता हैं।

By: Anil Kumar

Updated: 04 Apr 2021, 08:32 PM IST

जकार्ता। कोरोना महामारी से जूझ रही दुनिया को अब कई तरह की प्राकृतिक आपदाओं से भी जूझना पड़ रहा है। कुछ दिनों पहले भारी बारीश के बाद बाढ़ से ऑस्ट्रेलिया में हाहाकार मच गया था। अब इंडोनेशिया में मूसलाधार बारिश ने भारी तबाही मचाई है।

दरअसल, इंडोनेशिया के पूर्वी हिस्से में भारी बारिश के बाद भूस्खलन और बाढ़ की वजह से कम से कम 44 लोगों की मौत हो गई है, जबकि हजारों लोग बेघर हो गए हैं। वहीं कई लोग लापता हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है भूस्खलन और बाढ़ में कई लोग लापता हो गए हैं।

यह भी पढ़ें :- इंडोनेशिया में भूस्खलन से 11 लोगों की मौत, 14 लापता और 17 घायल हुए

राष्ट्रीय आपदा रोकथाम एजेंसी ने जानकारी देते हुए बताया है कि देश के पूर्वी नूसा तेंग्गरा प्रांत के फ्लोरेस द्वीप के लमेनेले गांव में भारी बारिश के बाद पहाड़ियों से भारी मात्रा में 50 घरों पर मलबा गिरा, जिसमें लोग दब गए।

राहत-बचाव का कार्य जारी

फिलहाल, राहत-बचाव का कार्य जारी है। मौके पर पहुंची राहत-बचाव की टीम ने 38 शवों को मलबे से बाहर निकाला है। बताया जा रहा है कि पांच लोग घायल हुए हैं। इसके अलावा ओयांग बयांग गांव में बाढ़ के पानी में बह गए तीन अन्य लोगों के शव भी मिले हैं। बाढ़ और भूस्खलन की वजह से इस गांव में 40 घर पूरी तरह नष्‍ट हो गए हैं।

वहीं एक अन्‍य गांव वैबुराक में रातभर हुई भारी बारिश के बाद बाढ़ आने से चार लोग घायल हो गए जबकि दो अन्य लापता बताए जाते हैं। पूर्वी फ्लोरेस जिले के बड़े हिस्से में बाढ़ का पानी घुसने से सैकड़ों घर डूब गए जबकि कुछ सैलाब में बह गए।

यह भी पढ़ें :- Indonesia: भारी बारिश के बाद कई जगहों पर भूस्खलन, अब तक 10 लोगों की मौत, 9 लापता

बता दें कि बिजली कटने और सड़कों पर मलबा आने के कारण मदद पहुंचाने और राहत बचाव के कार्य में दिक्कतें आ रही हैं। राहत और बचाव के काम में पुलिस और सैन्य कर्मी भी लगे हैं। पीड़ितों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा रहा है। इंडोनेशिया के पश्चिम नूसा तेंग्गरा के बीमा शहर में बाढ़ आने के कारण करीब 10 हजार लोगों को अपने घरों को छोड़ना पड़ा है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned