Indonesia: नए श्रमिक कानून के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन, हड़ताल पर गए प्रदर्शनकारी

HIGHLIGHTS

  • Protest Against New Labor Law In Indonesia: इंडोनेशिया में नए श्रमिक बिल के खिलाफ देशभर में व्यापक विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गया है।
  • लागू किए गए इस नए कानून के तहत कामगारों के अधिकार और उनके कामकाज के तरीकों में बदलाव लाने का प्रावधान किया गया है।

By: Anil Kumar

Updated: 29 Oct 2020, 06:31 AM IST

जकार्ता। इंडोनेशिया ( Indonesia ) में हाल में लागू हुए श्रमिक कानून ( New Labor Law ) को लेकर देशभर में व्यापक विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। जहग-जगह प्रदर्शनकारी आगजनी और हिंसक प्रदर्शन करते हुए इस नए कानून का विरोध जकर रहे हैं।

लागू किए गए इस नए कानून के तहत कामगारों के अधिकार और उनके कामकाज के तरीकों में बदलाव लाने का प्रावधान किया गया है। इसी के खिलाफ हजारों लोग सड़कों ( Protes In Indonesia ) पर उतर आए हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में सरकार के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन किया जा रहा है।

Indonesia : पति का चल रहा था Extramarital affair, लोगों ने मास्क पहनकर दी सौ कोड़ों की सजा

प्रदर्शनकारियों ने काम पर जाने से इनकार कर दिया है। इसके कारण पहले से ही कोरोना संकट से जूझ रही कंपनियां व कल-कारखान पूरी तरह ठप पड़ गए हैं। इन तमाम जगहों पर काम करने वाले मजदूर हड़ताल पर चले गए हैं। कई जगहों पर पुलिस व प्रदर्शनकारियों के बीच घड़प भी हुई है।

5 अक्टूबर को पास हुआ था बिल

बता दें कि इंडोनेशिया में श्रमिकों के लिए लाए गए बिल को संसद में बीते 5 अक्टूबर को पास किया गया है। यह बिल 900 से अधिक पन्नों का है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सरकार ने इस बिल के ड्राफ्ट को जनता के बीच लाए बिना ही पास कर दिया गया है।

अब इस बिल के पास होने से देशभर में बहुत सारे श्रम, खनन और पर्यावरण संरक्षण संबंधित कानून प्रभावित होंगे। मजदूरों का शोषण बढ़ जाएगा।

दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले इंडोनेशिया में चलता है भगवान गणेश के चित्र वाला 20 हजार का नोट

मालूम हो कि इंडोनेशिया के तमाम सभी बड़े मजदूर यूनियन इस बिल का विरोध कर रहे हैं। देशभर के करीब 32 मजदूर संगठनों ने अगले तीन दिन के हड़ताल का आह्वान किया है। देश के कम से कम एक दर्जन से अधिक शहरों में व्यापक प्रदर्शन किया जा रहा है।

प्रदर्शनकारी सरकार से इस बिल को वापस लेने और उनकी सहमति के अनुरूप नए बिल लाने की मांग कर रहे हैं। फिलहाल, प्रदर्शनकारियों की तरफ से की जा रही मांग पर सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned