पैरोल पर छूटकर पत्नी के जनाजे में शामिल हुए नवाज शरीफ, बेगम की मौत के समय भी थे जेल में बंद

पैरोल पर छूटकर पत्नी के जनाजे में शामिल हुए नवाज शरीफ, बेगम की मौत के समय  भी थे जेल में बंद

Mangala Prasad Yadav | Publish: Sep, 14 2018 06:28:55 PM (IST) | Updated: Sep, 14 2018 08:13:57 PM (IST) एशिया

नवाज शरीफ की बेगम कुलसुम नवाज को आज शाम सुपुर्दे खाक कर दिया गया। इससे पहले जनाजे की नमाज अदा की गई।

इस्लामाबादः पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेगम कुलसुम नवाज का शुक्रवार शाम सुपुर्दे खाक कर दिया गया। कुलसुम नवाज को उनके ससुर मियान शरीफ और दामाद अब्बास शरीफ की कब्रों के पास लाहौर में दफनाया गया। इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, शहबाज शरीफ, बेटी मरियम और दामाद रिटा. कैप्टन सफदर समेत हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे। इससे पहले मौलाना तारिक जमील ने जनाजे की नमाज पढ़ाई। जनाजे की नमाज में इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के बड़े नेता भी शामिल हुए। बता दें कि कुलसुम नवाज के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए भ्रष्टाचार के मामले में जेल में बंद नवाज शरीफ, बेटी मरियम और दामाद सफदर को तीन दिन की पैरोल पर रावलपिंडी जेल से रिहा किया गया था। लंदन में कुलसुम की मौत के समय ये तीनों लोग जेल में बंद थे।

सुबह पाकिस्तान पहुंचा पार्थिक शरीर
पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय एयरलाइन के एक विमान में उनका पार्थिव शरीर लंदन से पाकिस्तान लाया गया। सुबह करीब सात बजे विमान पार्थिव शरीर लेकर अल्लामा इकबाल अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर लैंड किया। इसके बाद शव को नवाज शरीफ परिवार के निवास स्थान पर ले जाया गया। जहां पर सैंकडों लोग कुलसुम को श्रद्दांजलि देने के लिए पहुंचे थे। बता दें कि नवाज शरीफ के छोटे भाई शहबाज शरीफ, कुलसुम की बेटी आस्मा, पोते जायद हुसैन शरीफ समेत परिवार के 11 पार्थिर शरीर को लेने के लिए लंदन गए थे। कुलसुम के दोनों बेटे हसन और हुसैन नवाज मां के अंतिम संस्कार के लिए पाकिस्तान नहीं लौटे हैं। क्योंकि अगर ये लोग पाकिस्तान आते तो भ्रष्टाचार के मामले में इन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाता। क्योंकि कोर्ट ने इन दोनों को भगोड़ा घोषित किया हुआ है।

मंगलवार को कुलसुम नवाज का हुआ था निधन
नवाज शरीफ की पत्नी कुलसुम नवाज ने मंगलवार को लंदन के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। उन्हें कैंसर हुआ था जिसका इलाज लंबे समय से चल रहा था। निधन से पहले कुलसुम नवाज को जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था। कुलसुम नवाज को बीते साल अगस्त में लिम्फोमा कैंसर की पहचान हुई थी और इसके बाद से वह लंदन में थीं, जहां उनकी कई सर्जरी की गई थी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned