मालदीव के राष्ट्रपति देश नहीं छोड़ रहे : प्रवक्ता

राष्ट्रपति गयूम के प्रवक्ता इब्राहिम मुआज ने ट्वीट के जरिए शुक्रवार को इसका खंडन किया और कहा, बात पूरी झूठी थी ।

By: Prashant Jha

Published: 03 Feb 2018, 10:12 PM IST

माले: मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद समेत कद्दावर कैदियों को आजाद करने के शीर्ष अदालत के फैसले के बाद वर्तमान राष्ट्रपति यामीन अब्दुल गयूम के देश छोड़कर भागने की बात महज अफवाह है। राष्ट्रपति यामीन अब्दुल गयूम के प्रवक्ता ने कहा है कि गयूम देश छोड़ने कहीं नही जा रहे हैं। इससे पहले यह अफवाह थी कि राष्ट्रपति गयूम देश छोड़कर सिंगापुर भागने की कोशिश में हैं। गयूम के प्रवक्ता इब्राहिम मुआज ने ट्वीट के जरिए शुक्रवार को इसका खंडन किया और कहा, "बात पूरी झूठी थी और सोशल मीडिया में जो टिकट की तस्वीर आई, वह कथित तौर पर राष्ट्रपति यामीन का होने की बात झूठ साबित हुई।"

सुप्रीम कोर्ट ने रिहा करने का दिया आदेश

मालदीव के सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार रात पूर्व राष्ट्रपति नशीद समेत कारावास में बंद राजनेताओं को तुरंत मुक्त करने का आदेश दिया। जिसके बाद अफवाह फैलने लगी की मौजूदा राष्ट्रपति यामिन अब्दुल गयूम देश छोड़कर सिंगापुर चले जाएंगे। लेकिन इस अफवाह को खारिज कर दिया गया है।

भारत समेत अमरीका ऑस्ट्रेलिया ने किया स्वागत

भारत समेत संयुक्त राष्ट्र, अमरीका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन ने अदालत के इस फैसले का स्वागत किया है और इसे हिंद महासागर में बसे देश में लोकतंत्र की बहाली और राजनीतिक उथल-पुथल का अंत होने की दिशा में एक कदम करार दिया है। देश में सबसे पहले लोकतांत्रिक ढंग से चुने गए नेता नशीद ने 2008 में सत्ता संभाली थी। लेकिन फरवरी 2012 में तख्तापलट करते हुए उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया गया।

आतंकवाद के आरोप में मालदीव में अशांति का माहौल

इसके बाद 2015 में आतंकवाद के आरोपों में उन्हें 13 साल कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद से मालदीव में अशांति का माहौल है। नशीद को 2016 में ब्रिटेन ने राजनीतिक शरण दी थी। नशीद ने इस फैसले के बाद गयूम को इस्तीफा देने को कहा है। साथ ही, वह माले वापस लौटने की तैयार में हैं।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned