Mission Mars: चीन जुलाई में लॉंच करेगा Tianwen-1, सफल लैंडिंग पर ऐसा करने वाला होगा तीसरा देश

HIGHLIGHTS

  • चीन जुलाई में अपना पहला मंगल मिशन ( Mars Mission ), 'Tianwen-1' लॉन्च करेगा। यह 2021 की पहली तिमाही में मंगल ग्रह की सतह पर उतरेगा।
  • यदि यह मिशन सफल होता है तो चीन मंगल ग्रह की सतह पर पहुंचने वाला तीसरा देश बन जाएगा।

By: Anil Kumar

Updated: 27 May 2020, 10:31 PM IST

बीजिंग। चीन अंतरिक्ष ( China Space Mission ) में लगातार पैर पसारता जा रहा है और एक नई इबादत लिख रहा है। अब इस कड़ी में एक और इतिहास रचने की तैयारी में है। चीन मंगल ग्रह तक पहुंचने के लिए Tianwen-1 मिशन लॉंच करेगा।

जानकारी के मताबिक, चीन जुलाई में अपना पहला मंगल मिशन ( Mars Mission ), 'तियानवेन -1' लॉन्च करेगा। यह 2021 की पहली तिमाही में मंगल ग्रह की सतह पर उतरेगा।

भारत-चीन के बीच सीमा विवाद को सुलझाने आए Donald Trump, मध्यस्थता की इच्छा जताई

यदि यह मिशन सफल होता है तो चीन ऐसा करने वाला तीसरा देश बन जाएगा। इससे पहले USSR और अमरीका मंगल ग्रह में सफल लैंडिंग करा चुके हैं। प्राचीन चीनी कविता 'क्वेश्चन टू हेवन' के नाम पर रखा गया, तियानवेन-1, एक ऑल-इन-वन ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर है जो पानी, बर्फ के लिए मार्टियन सतह की खोज करेगा, मिट्टी की विशेषताओं की जांच करेगा।

Tianwen-1 मिशन

Tianwen-1 मिशन लॉन्ग मार्च 5 रॉकेट के जरिए लॉंच किया जाएगा, जो कि एकेडमी ऑफ़ लॉन्च व्हीकल टेक्नोलॉजी (CALT) द्वारा विकसित की गई है। इसे वेंचंग लॉन्च सेंटर से और 13 पेलोड (सात कक्षा और छह गोताखोर) लेकर जाएगी। रविवार को चीन एयरोस्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी कॉरपोरेशन (CASC) ने पुष्टि की कि जुलाई में मिशन को लॉंच किया जाएगा। इस परियोजना पर 2016 से काम किया जा रहा है।

एयर एंड स्पेस मैगज़ीन की एक रिपोर्ट के अनुसार, चीनी मिशन मार्टियन सतह पर एक भू-मर्मज्ञ रडार लगाने वाला पहला स्थान होगा, जो स्थानीय भूविज्ञान के साथ ही साथ चट्टान, बर्फ और गंदगी के वितरण का अध्ययन करने में सक्षम होगा। अभी दो लैंडिंग स्थलों की पहचान की गई है, जिनमें से एक यूटोपिया प्लैनिटिया है।

चीन से तकरार के बीच अमरीका ने प्रशांत महासागर में लेजर हथियार का किया सफल परीक्षण

आपको बता दें कि इससे पहले चीन का मंगल मिशन ‘Yinghuo-1’ विफल हो गया था। यह मिशन 2012 में रूसी अंतरिक्ष यान से लॉंच किया गया था, लेकिन पृथ्वी की कक्षा से बाहर नहीं जा सका था और प्रशांत महासागर में विघटित हो गया था।

अब एक बार फिर से चीनी मिशन के जुलाई के अंत तक खत्म होने की उम्मीद है। जबकि ठीक इसी समय पर नासा अपने स्वयं के मंगल मिशन को शुरू कर रहा है।

अब तक के मंगल मिशन

आपको बता दें कि 1971 में USSR ऐसा पहला देश बना जिसने मंगल ग्रह पर सफल लैंडिंग की। इसके बाद USSR ने दो साल बाद 1973 में अपनी दूसरी लैंडिंग कराई थी। मंगल की सतह पर पहुंचने वाला दूसरा देश अमरीका बना। अमरीका ने 1976 में 8 सफल मार्स लैंडिंग की थी और हाल ही में 2019 में 'इनसाइट' (2018 में लॉन्च) किया था।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned