Nepal में 3800 साल पुरानी मूर्तियां मिली, किराट देवी की आकृति को देखने के लिए लोगों का तांता लगा

Highlights

  • इन मूर्तियों को जमीन से करीब 300 मीटर की गहराई से निकाला गया है।
  • सोशल मीडिया पर भी इनकी तस्‍वीरों को जमकर शेयर किया जा रहा है।

By: Mohit Saxena

Updated: 26 Aug 2020, 02:29 PM IST

काठमांडू। नेपाल (Nepal) के धुलीखेल क्षेत्र में तीन हजार साल पुरानी किराट देवी की मूर्तियों के अवशेष मिले हैं। पुरात्तव विभाग का कहना है कि ये करीब 3800 साल पुरानी मूर्तियां हैं। इसके मिलने से लोगों में कई पुरानी वस्तुओं को पाने की आस बढ़ गई है। इसे सहेजने वाले लोग उत्‍साहित हैं। इन मूर्तियों को जमीन से करीब 300 मीटर की गहराई से निकाला गया है। बताया जा रहा है कि यह मूर्ति नेपाल की सबसे पुरानी मूर्तियों में से एक है। इन मूर्तियों को देखने के लिए बड़ी संख्‍या में लोगों का तांता लगा हुआ है। सोशल मीडिया पर भी इनकी तस्‍वीरों को जमकर शेयर किया जा रहा है।

स्‍थानीय पुरातत्‍वविद श्रीकृष्‍ण धीमाल का कहना है कि इन मूर्तियों को शुक्रवार को एक निर्माण के दौरान बरामद किया गया था। स्‍थानीय लोगों ने इसे अपने घर ले जाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन अन्‍य गांववालों को इन मूर्तियों के बारे में जानकारी मिल गई। इसके बाद पुरातत्व विभाग ने वहां पर पहुंचकर इसे अपने कब्जे में ले लिया।

धीमल ने कहा कि उन्‍होंने अन्‍य पुरातत्‍वविदों को इस बारे में जानकारी दी। पुरातत्‍वविदों ने बताया कि ये मूर्तियां प्रथम या द्व‍ितीय ईसापूर्व की हैं। उनका कहना है कि ये मूर्तियां किसी देवी की हैं। माना जा रहा है कि यह मूर्ति किराट देवी की है। धीमल के अनुसार अगर यह सही है तो ये मूर्तियां करीब 3800 साल पुरानी हैं।

वहीं एक अन्‍य पुरातत्‍वविद उधव आचार्य का कहना है कि ये मूर्तियां आदिम काल की रही हैं। इसे देखकर लग रहा है कि ये दूसरी या तीसरे ईसापूर्व की हो सकतीं हैं। यह नेपाल की अब तक की सबसे पुरानी मूर्तियों में से एक है। पुरातत्‍वविदों ने इस इलाके में म्‍यूजियम बनाए जाने की मांग भी की है। माना जा रहा है कि इस इलाके में ज्यादा खुदाई करने पर इस तरह के कई पुराने अवशेष प्राप्त हो सकते हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned