नेपाल में वायु प्रदूषण ने बढ़ाई चिंता, 2 अप्रैल तक सभी शिक्षण संस्थान बंद

Nepal Air Pollution: नेपाल के शिक्षा मंत्रालय ने सोमवार को जानकारी देते हुए बताया है कि बढ़ते वायु प्रदूषण के मद्देनजर सरकार ने 2 अप्रैल तक देश के सभी शिक्षण संस्थाओं को बंद करने का फैसला किया है।

By: Anil Kumar

Updated: 29 Mar 2021, 05:56 PM IST

काठमांडू। पूरी दुनिया कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रही है, वहीं पड़ोसी देश नेपाल में कोरोना के साथ-साथ एक और नहीं समस्या आ खड़ी हुई है। दरअसल, नेपाल में लगातार वायु प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है और ऐसे में लोगों के लिए सांस लेने भी मुश्किल हो रहा है।

लिहाजा, सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए कुछ दिनों के लिए सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने के आदेश दिए हैं। नेपाल के शिक्षा मंत्रालय ने सोमवार को जानकारी देते हुए बताया है कि बढ़ते वायु प्रदूषण के मद्देनजर सरकार ने 2 अप्रैल तक देश के सभी शिक्षण संस्थाओं को बंद करने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें :- स्वच्छ भारत मिशन के लिए 1.4 लाख करोड़ और वायु प्रदूषण के लिए 2,217 करोड़ रुपये आवंटित

बता दें कि एक आंकड़े के मुताबिक, नेपाल में वायु प्रदूषण की वजह से 2019 में 22 फीसदी नवजात बच्चों की जन्म के एक महीने के भीतर मौत हुई थी। नेपाल में वायु प्रदूषण बढ़ने के कई कारण हैं। इनमें से एक जंगल में आग लगने की वजह से राजधानी काठमांडू की हवा की शुद्धता में काफी गिरावट देखने को मिली है।

बताया जा रहा है कि हाल के कुछ वर्षों में काठमांडू में इस बार की स्थिति सबसे अधिक खराब है। यही कारण है कि सरकार को यह फैसला लेना पड़ा है। सरकार ने कहा है कि लोग अभी अपने घरों से अधिक न निकलें, ताकि वायु प्रदूषण के इस प्रभाव से बचा जा सके।

 

कोरोना ने भी बढ़ाई आफत

आपको बता दें कि नेपाल में भी कोरोना महामारी का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। हालांकि नेपाल में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। इसके बावजूद भी संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है। नेपाल में अब तक 2,76,244 लोग कोरोना संक्रमण से प्रभावित हो चुके हैं, जबकि 3,019 लोगों की जान जा चुती है। वहीं इस संक्रमण से 2,72,097 लोग ठीक भी हो चुके हैं।

यदि पूरी दुनिया की बात करें तो अब तक 12,46,83,860 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 27,42,357 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, 7,07,31,505 लोग स्वस्थ भी हो चुके हैं। कोरोना महामारी से सबसे अधिक अमरीका प्रभावित हुआ है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned